शाहीन बाग में धरना स्थल के करीब पेट्रोल बम से हमला, कोई बड़ा नुकसान नहीं

दिल्ली के शाहीन बाग में सीएए और एनआरसी के खिलाफ चल रहे प्रदर्शन स्थल के करीब पेट्रोल बम फेकने का मामला सामने आया है। रविवार को प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया कि किसी ने धरना स्थल के पास पेट्रोल बम फेका है।

इन लोगों का कहना है कि धरनास्‍थल के समीप पेट्रोल बम फेंका गया है। इस घटना को अंजाम देने वालों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। बैरिकेड के पास प्लास्टिक के एक बोतल में कुछ विस्फोटक सामान भी बरामद किया गया है।

विशेष पुलिस आयुक्त ने कहा है कि कोई बड़ी घटना नहीं हुई है। शाहीन बाग प्रदर्शन स्थल पर जनता कर्फ्यू के दिन रविवार को केवल 4-5 महिलाएं ही बैठी हुई हैं। तस्वीरों में जो आग लगती हुई दिख रही है वह कोई ज्यादा बड़ी नहीं थी। आग को बुझा दिया गया है।

उधर, जामिया मिल्लिया इस्लामिया में चल रहे सीएए और एनआरसी विरोधी प्रदर्शन के शनिवार को 100 दिन पूरे हो गए। जामिया कोआर्डिनेशन कमेटी ने कोरोना वायरस को लेकर विश्वविद्यालय गेट पर चल रहे प्रदर्शन को 24 घंटे के लिए स्थगित किया है।

शाहीनबाग में नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ जारी प्रदर्शन से जुड़े एक प्रदर्शनकारी में कोरोनावायरस की पुष्टि हुई है। जहांगीरपुरी निवासी इस शख्स की बहन इसी महीने सऊदी अरब से आई है, जो संक्रमित पाई गई है। प्रदर्शनकारी तक संक्रमण उसकी बहन से ही फैला है। यह प्रदर्शनकारी सीएए के खिलाफ पिछले दिनों शाहीन बाग में चल रहे प्रदर्शन में शामिल हुआ था। व्यक्ति के मुताबिक, वह 9 फरवरी के बाद दोबारा कभी शाहीनबाग नहीं गया।

विज्ञापन