पर्सनल लॉ बोर्ड बोला – मुस्लिमों के पक्ष में आएगा फैसला, किसी को नहीं देंगे जमीन

3:24 pm Published by:-Hindi News

लखनऊ. राजधानी के नदवा कालेज में बाबरी मुद्दे पर हुई मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की बैठक में कहा गया कि बोर्ड को सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन अयोध्या मामले में फैसला मुसलमानों के पक्ष में आने की उम्मीद है।

शनिवार को बोर्ड ने कहा कि जो जमीन मस्जिद के लिए समर्पित है, उसे बदला या किसी पक्ष को स्थानांतरित नहीं किया जा सकता। बोर्ड ने कहा कि केस अपने अंतिम पड़ाव पर है, ऐसे में अब कोई भी मुस्लिम शख्स या वक्फ उस भूमि को हस्तांतरित नहीं कर सकता।

बोर्ड ने ऐतिहासिक सुबूत और गवाहों का हवाला देकर ये भी साफ किया कि बाबरी मस्जिद का निर्माण मन्दिर को गिराकर या किसी मन्दिर की जमीन पर नही किया गया है। बोर्ड ने ये भी कहा कि अयोध्या मामले का मुकदमे पर न केवल हिन्दुस्तान बल्कि पूरी दुनियां की निगाहें लगी हुई हैं और लोग यह उम्मीद रखते हैं कि देश की अदालत हिन्दुस्तान के संविधान, देश के कानून और गवाहों व दलीलों पर नजर रखेगी।

अध्यक्षता में लखनऊ स्थित नदवतुल उलमा में हुई बोर्ड की एक्जीक्यूटिव कमेटी की महत्वपूर्ण बैठक में अयोध्या मामले, समान नागरिक संहिता और तीन तलाक के अहम मुद्दों पर भी विस्तृत चर्चा हुई।

बैठक में तय किया गया कि बोर्ड समान नागरिक संहिता के मुद्दे पर अपने पुराने रुख पर कायम है। यह संहिता हिन्‍दुस्‍तान के लिये फायदेमंद नहीं है और न ही जमीनी स्‍तर पर उसे लागू किया जा सकता है।

वहीं तीन तलाक कानून के खिलाफ ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड सुप्रीम कोर्ट का सहारा लेगा। बोर्ड का मानना है कि शादीशुदा मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की हिफाजत के नाम पर बना कानून खुद महिलाओं को नुकसान पहुंचाने वाला है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें