नई दिल्ली | भारत में शुद्ध और सेहतमंद उत्पाद बनाने का पर्याय बन चुकी, बाबा रामदेव की कंपनी पतंजली आयुर्वेद के लिए एक बुरी खबर है. देश भर की आर्मी कैंटीन में , पतंजली के एक उत्पाद को मानको पर खरा न उतरने के बाद बैन कर दिया गया है. यह बाबा रामदेव के लिए बाद झटका माना जा रहा है क्योकि सेना के इस कदम से बाजार में शुद्धता की गारंटी बन चुके पतंजली के उत्पादों से लोगो का विश्वास कम हो सकता है.

मिली जानकारी के अनुसार 3 अप्रैल को कैंटीन स्टोर्स डिपार्टमेंट (CSD) ने अपने सभी डिपो से पत्र लिखकर पतंजली के आंवला जूस की बिक्री रोकने के लिए कहा. इसके अलावा CSD ने यह भी निर्देश दिया की बचे हुए आंवल जूस के स्टोक को लौटने के लिए एक नोट भी तैयार करे. CSD ने अपने इस कदम की जानकारी बाबा रामदेव की कंपनी को प्रेषित कर दी है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आंवला जूस को बैन करने के कारणों का हवाला देते हुए CSD ने बताया की पतंजली का यह उत्पाद मानको पर खरा नही उतरा है. एक लैब रिपोर्ट का हवाला देते हुए उन्होंने कहा की लैब रिपोर्ट में बताया गया है की पतंजली का यह उत्पाद सेहत के नुकसानदायक है. इस मामले की जानकारी रखने वाले दो अधिकारियो ने बताया की आंवला जूस की टेस्टिंग कोलकाता की सेंट्रल फूड लैबरेटरी में करायी गयी.

यह एक सरकारी लैब है जिसने आंवला जूस के बारे में प्रतिकूल रिपोर्ट CSD को भेजी है. रिपोर्ट आने के बाद ही CSD ने यह उत्पाद बैन करने का आदेश दिया. खबरों के अनुसार पतंजली ने आर्मी कैंटीन से अपने उत्पाद को वापिस भी मंगाना शुरू कर दिया है. हालाँकि CSD के आदेश पर पतंजली की और से अभी तक कोई भी प्रतिक्रिया नही आई है.

Loading...