Monday, October 18, 2021

 

 

 

मध्य प्रदेश और पंजाब में रिलीज़ नही होगी ‘पद्मावती’, शिवराज ने पद्मावती को बताया राजमाता

- Advertisement -
- Advertisement -

भोपाल । संजय लीला भंसाली की बहुप्रतिक्षित फ़िल्म ‘पद्मावती’ पर जारी विवाद थमने का नाम नही ले रहा है। हालाँकि फ़िल्म की रिलीज़ डेट आगे जा चुकी है लेकिन अभी भी कई संगठन इसका विरोध कर रहे है। फ़िलहाल यह मामला राजनीतिक रंग में भी रंगता जा रहा है। देश के दो बड़े दल भाजपा और कांग्रेस के कई नेता लगातार फ़िल्म के विरोध में बयानबाज़ी कर रहे है। अब इस कड़ी में राज्य सरकारें भी शामिल हो गयी है।

मध्य प्रदेश की शिवराज सरकार ने प्रदेश में फ़िल्म की रिलीज़ पर रोक लगा दी है। उनके पीछे पीछे पंजाब की अमरिंदर सरकार ने भी फ़िल्म पर रोक लगा दी। वही उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने भी स्पष्ट तौर पर कहा है कि जब तक फ़िल्म से आपत्तिजनक द्रश्य नही हटाए जाएँगे , फ़िल्म को प्रदेश में रिलीज़ नही होने दिया जाएगा। उधर राजस्थान की वसुंधरा सरकार ने भी सूचना प्रसारण मंत्री को पत्र लिखकर अपनी चिंता ज़ाहिर की।

न्यूज़ एजेन्सी एएनआइ के अनुसार सोमवार को राजपूत प्रतिनिधिमंडल ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाक़ात की। इस प्रतिनिधिमंडल में कई भाजपा विधायक शामिल थे। मुलाक़ात के बाद शिवराज ने कहा कि फिल्म, राजमाता पद्मावती के सम्मान के खिलाफ बनी है, जबकि अपने मान-सम्मान के लिए रानी पद्मावती ने जान दे दी थी। रानी पद्मावती और उनके जीवन और मृत्यु के बारे में उन्होंने बचपन से पढ़ा है। इतिहास से छेड़छाड़ बर्दाश्त नहीं है।

शिवराज ने आगे कहा की आपत्तिजनक दृश्य हटाये जाने तक फ़िल्म को प्रदेश में प्रदर्शित करने की इजाजत नहीं दी जाएगी। इस दौरान शिवराज ने पद्मावती का स्मारक बनाने की भी घोषणा की। शिवराज की देखा देखी पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने भी प्रदेश में ‘पद्मावती’ की रिलीज़ पर रोक लगा दी। इसके साथ उन्होंने उन लोगों का भी समर्थन किया जो फ़िल्म का विरोध कर रहे है। उन्होंने कहा कि इतिहास के साथ छेड़छाड़ बर्दाश्त नही की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles