पी चिदंबरम को नहीं मिली जमानत, 26 अगस्त तक CBI के रिमांड पर

7:54 pm Published by:-Hindi News

आईएनएक्स मीडिया घोटाला मामले में देश के पूर्व गृह मंत्री और वित्त मंत्री पी चिदंबरम से सीबीआई ने मुख्यालय के अंदर फिर से पूछताछ की गई। लेकिन सीबीआई ने कहा कि पूछताछ में सहयोग नहीं किया है। पूछताछ के बाद पी चिदंबरम को सीबीआई स्पेशल कोर्ट लेकर जाया गया। जहां से उन्हे बड़ा झटका लगा है।

दिल्ली स्थित राउज एवेन्यू कोर्ट ने उन्हें मामले पर सुनवाई के बाद 26 अगस्त, 2019 तक की रिमांड पर भेज दिया है।हालांकि, इस दौरान चिदंबरम से परिजन और वकील हर रोज सिर्फ आधे घंटे के लिए मुलाकात कर सकेंगे। इससे पहले, कोर्ट ने इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था।

वहीं, पूर्व केंद्रीय मंत्री के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने सवाल उठाया कि आखिर इसने समय बाद चिदंबरम क्यों गिरफ्तार क्यों किए गए? और किसी को तो नहीं अरेस्ट किया गया। एफआईपीबी के छह आरोपी भी नहीं पकड़े गए हैं। आखिर सीबीआई इतनी परेशान क्यों है? सिंघवी के मुताबिक, पूरे केस में ही रवैया गलत है।

इस दौरान सीबीआई की दलील का वरिष्ठ अधिवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कपिल सिब्बल के साथ मिलकर विरोध किया। सिब्बल ने अदालत से कहा, जमानत देना नियम है और अदालत के समक्ष मुद्दा व्यक्तिगत स्वतंत्रता का है। सिंघवी ने अदालत से कहा- समूचा मामला इंद्राणी मुखर्जी के बयान पर आधारित है जो अब सरकारी गवाह बन चुकी है। सिंघवी ने कहा कि चिदंबरम से हिरासत में पूछताछ की जरूरत नहीं है क्योंकि सीबीआई ने सबूत से छेड़छाड़ का कोई आरोप नहीं लगाया है।

सॉलिसिटर जनरल ने चिदंबरम की दलीलों का विरोध किया और कहा कि अदालत के सामने सब समान हैं। सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि मामले में कुछ तथ्यों के बारे में खुली अदालत में नहीं बताया जा सकता है।

Loading...