असम के गुवाहाटी में बेहद ही चौकाने वाला मामला सामने आया है। हैदराबाद से लोकसभा सांसद असदउददीन ओवैसी के भाषण का विडियो मिलने पर ताज विवांता होटल के प्रबंधन ने तीन मुस्लिम युवकों को कट्टरपंथी बताकर प्रताड़ित किया और फिर जेल भेजने तक की धमकी दी।

द हिंदू में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, इमरान हुसैन लसकर, साहब उद्दीन और जाहिद इस्लाम बरभुईयान ने दिल्ली के लिए फ्लाइट मिस होने के बाद चार सितारा होटल ताज विवांता में कमरा लिया था। लसकर सेना में दांतों का डॉक्टर है, साहब उद्दीन सिलचर के पास ही कॉलेज संचालित करता है। जबकि बरभुईयान एक शिक्षक है।

बरभुईयान ने बताया, तीनों ने दोपहर 2 बजे होटल में चेक इन किया था। उन्होंने 2000 रुपये कमरे में अतिरिक्त बेड के लिए भी चुकाए थे। इसके बाद वह बाहर चले गए। उन्होंने बताया कि जब वह शाम को 4 बजे होटल में वापस लौटे तो पूरा होटल सुरक्षाकर्मियों से भरा हुआ था। वह सभी उनकी गतिविधियों की निगरानी कर रहे थे। तीनों ने बताया कि होटल के स्टाफ ने उनकी ​अतिरिक्त बेड की अपील को भी पूरा नहीं किया।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

न्यूज18 की रिपोर्ट के मुताबिक, लसकर ने उन्हें बताया कि होटल प्रबंधन ने उन्हें सुरक्षा जांच, सामान की जांच के लिए भेज दिया। वहां कुछ लोग थे जो लगातार उनका पीछा कर रहे थे। जब हमने सवाल किया तो उन्होंने कहा कि ये सीईओ का आदेश है। जो उन्होंने मेरे साथ किया, क्या वो सही है? क्या ये एक सैनिक से बर्ताव करने का सही तरीका है?

बरभुईयान ने कहा, ” उन्होंने हमें एक कमरे में बंद कर दिया और ढेर सारे सवाल पूछे। हमारे चारों तरफ ढेर सारे सुरक्षाकर्मी खड़े हुए थे और हम मानसिक रूप से प्रताड़ित हो रहे थे।” बरभुईयान ने कहा कि लसकर ने पूरी प्रताड़ना को रिकॉर्ड करने की कोशिश की, लेकिन उसका मोबाइल छीन लिया गया। उन्होंने हमारे मोबाइल की जांच की और उसमें असदउददीन ओवैसी का पुराना वीडियो मिला और उन्होंने ओवैसी को कट्टरपंथी करार दिया।

तीन लोगों के साथ हुए इस कथित दुर्व्यवहार पर सांसद और एआईएमआईएम के प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी ने असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल से जांच की अपील की है। इस संबंध में ओवैसी ने ट्वीट करते हुए पूरा मामला उठाया है।

Loading...