ज़ी चैनल की लाईव डिबेट में मौलाना एजाज अरशद कासमी और पैनलिस्ट फराह फैज के बीच हाथापाई के मामले में तीखी बहस मारपीट मे उस वक्त बदल गई जब फराह फैज ने मौलाना कासमी को जानवर कहकर थप्पड़ दे डाला। जिसके बाद उन्होने भी जवाबी थप्पड़ रसीद कर दिया।

इस घटना के बाद पुलिस टीवी चैनल के दफ्तर भी गई और मौलाना एजाज अरशद कासमी को गिरफ्तार कर लिया।पुलिस ने घटना के संबंध में पूछताछ भी की। इस पूरे मामले की जांच के लिए मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने बनाई है। बोर्ड का कहना है कि 3 सदस्यीय कमेटी का गठन कर मामले की जांच की जा रही है।

owaa

पर्सनल लॉ बोर्ड कि इस कार्रवाई पर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मौलाना एजाज अरशद कासमी को बोर्ड की सदस्यता से बर्खास्त कर दिया जाना चाहिए। हमें इस मामले में कमेटी की क्या जरुरत है! कोई व्यक्ति लाइव टीवी डिबेट में किसी महिला के साथ मारपीट कैसे कर सकता है?