नई दिल्ली | पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा के एक लेख ने विपक्षी दलों को मानो संजीवनी बूटी थमा दी हो. मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों की आलोचना करते हुए यशवंत सिन्हा ने पीएम मोदी और वित्त मंत्री पर देश की अर्थव्यवस्था का बेडा गर्क करने का आरोप लगाया. इसके बाद से ही विपक्षी दलों ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. खासकर कांग्रेस ने इस मुद्दे को भुनाते हुए यशवंत सिन्हा के लेखा का समर्थन किया.

अब एमआईएमआईएम् प्रमुख असुदुद्दीन ओवैसी ने भी इस मामले में अपनी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने पीएम मोदी पर सपने बेचने का आरोप लगाते हुए कहा की एक तरफ देश की अर्थव्यवस्था को नष्ट किया जा रहा है और दूसरी तरफ मोदी जी सपने बेच रहे है. ओवैसी ने यशवंत सिन्हा के लेख पर कहा की वो वित्त मंत्री रह चुके है, एक ब्यूरोक्रेट भी रहे है, इसलिए उनकी बात को गंभीरता से सुना जाना चाहिए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ओवैसी ने आगे कहा की अगर अब भी सरकार नही चेती तो यह मुनासिब नही है. वह (यशवंत सिन्हा) मोदी सरकार को आइना दिखा रहे है. अभी भी मोदी सरकार के मंत्री उनके बयान को सही नही बता रहे है. जबकि देश में छोटो व्यापारी तबाह हो चुके है, देश में बेरोजगारी बढ़ रही है, कई उधोग बंद हो चुके है. फिर भी मोदी जी पता नही कौन से सपने बेच रहे है.

उधर यशवंत सिन्हा के मोदी सरकार पर हमले दुसरे दिन भी जारी है. मीडिया से बात करते हुए उन्होंने गृह मंत्री राजनाथ सिंह और रेल मंत्री पियूष गोयल पर निशाना साधा. उन्होंने कहा की हो सकता है वो मुझसे बड़े अर्थशास्त्री हो, लेकिन फिर भी पिछली तीन तिमाही से अर्थव्यवस्था में गिरावट देखने को मिल रही है. आप 40 हफ्तों से सत्ता में है, इसलिए आप पूर्व की सरकारों पर दोष नही डाल सकते. इसके लिए मोदी सरकार ही दोषी है.

Loading...