Thursday, May 19, 2022

केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से पूछे गए अपमानजनक सवाल की वजह से हुई सर्जिकल स्ट्राइक

- Advertisement -

नई दिल्ली | पिछले साल 28 सितम्बर को पाक अधिकृत कश्मीर में हुई सर्जिकल स्ट्राइक के बारे में बताते हुए पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर परिकर ने कहा की हमने केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से पूछे गए एक अपमानजनक सवाल के बाद सर्जिकल स्ट्राइक करने का फैसला किया था. बताते चले की भारतीय सेना ने पाक अधिकृत कश्मीर में घुसकर कई आतंकियों को मार गिराया था और उनके ठिकानो को भी नष्ट कर दिया गया था.

गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर परिकर ने शुक्रवार को उधोगपतियो की सभा को संबोधित करते हुए उपरोक्त बाते कही. उन्होंने सभा में सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र करते हुए कहा की इसकी योजना जून 2015 में ही बना ली गयी थी. उस समय 4 जून को पूर्वोत्तर के आतंकी समूहों एनएससीएन ने मणिपुर के चंदेल में भारतीय जवानों के काफिला पर हमला बोल हमारे 18 जवानों की जान ले ली थी.

मनोहर परिकर ने बताया की उस समय हमने आतंकियों को मुंह तोड़ जवाब देने का फैसला किया था. इसलिए 8 जून को भारत म्यांमार सीमा पर आतंकियों समूहों पर लक्षित हमले किये गए जिसमे करीब 80 आतंकियों को मार गिराया गया. इस हमले के बाद पत्रकारों ने केन्द्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर से एक ऐसा अपमानजनक सवाल किया जिसका जवाब देने के लिए पाक अधिकृत कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया गया.

मनोहर परिकर ने बताया की उस समय एक पत्रकार ने राज्यवर्धन से पुछा की क्या आपमें देश के पश्चिमी मोर्चे पर भी ऐसा करने का साहस और क्षमता है? यह सवाल मैंने बेहद ध्यान से सूना था. इसलिए हमने सही समय पर जवाब देने का फैसला किया. मालूम हो की 28 सितम्बर को हुई सर्जिकल स्ट्राइक का जिक्र प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी अमेरिका यात्रा के दौरान भी किया. हालाँकि विपक्षी दल लगातार उन पर सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाते रहे है.

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles