किसान आंदोलन (Farmers Protest) के नाम पर 26 जनवरी को रोम में भारतीय दूतावास में तोड़फोड़ का मामला सामने आया है। इसके अलावा अमेरिका के वॉशिंगटन डीसी (Washington DC) में कृषि कानून के विरोध की आड़ में भारतीय दूतावास (Indian embassy) के बाहर खालिस्तानी झंडे लहराए गए।

सूत्रों ने एएनआई एजेंसी को बताया कि भारतीय सरकार यहां पर लगातार इस संबंध में इटली की अथॉरिटी के सामने चिंता जाहिर करती रही है, वहीं गणतंत्र दिवस के मौके पर भी यह चिंता उठाई गई थी। सूत्रों ने बताया कि भारत सरकार ने आशा जताई है कि इटली की सरकार इस घटना के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ एक्शन लेगी और आगे ऐसी घटनाएं न हों, इसे सुनिश्चित करेगी।

एशियानेट के एक वीडियो के मुताबिक खालिस्तानी समर्थकों ने दूतावास की दीवारों पर स्लोगन लिख डाले। उन्होंने दीवारों पर ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ लिख दिया और दूतावास पर खालिस्तानी झंडा भी लहरा दिया। इस खबर में यह भी दावा किया गया कि प्रदर्शनकारियों ने भारत के संविधान की प्रतियों को भी फाड़ दिया।

वॉशिंगटन डीसी में सिख DMV यूथ और संगत की ओर से आयोजित किए एक प्रदर्शन में कुछ दर्जनभर प्रदर्शनकारी नजर आए थे, जो केसरिया ‘खालिस्तानी’ झंडे लिए हुए थे और भारत-विरोधी नारे लगा रहे थे। पिछले साल दिसंबर में भी प्रदर्शनकारियों ने दूतावास के बाहर खालिस्तानी झंडे लहराए थे और गांधी जी की प्रतिमा को भी खराब कर दिया था।