देश के 50 करोड़ मोबाइल यूजर्स को बड़ा झटका लग सकता है। जिस आधार नंबर के जरिए आपने नया नंबर लिया है या फिर अपने पुराने नंबर पर ही आधार की जानकारी अपडेट कराई है। अब उसी आधार की वजह से अब आपका नंबर बंद हो सकता है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले की वजह से ऐसा हो सकता है।

यह खतरा उन मोबाइल उपभोक्ताओं के लिए है, जिन्होंने कनेक्शन लेने के दौरान आधार कार्ड के अलावा कोई और दूसरा पहचान पत्र नहीं दिया है। ऐसे में केवल आधार कार्ड देकर मोबाइल कनेक्शन लेने वाले लोगों को नई केवाईसी प्रक्रिया से गुजरना पड़ेगा। आधार वेरिफिकेशन के जरिए लिए गए इन सिम कार्ड को अगर किसी दूसरे आइडेंटिफिकेशन प्रक्रिया का बैकअप नहीं मिला, तो ये जल्द ही डिसकनेक्ट या डिएक्टिव हो जाएंगे।

द टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी खबर के मुताबिक, इस मुद्दे पर सरकार में उच्चतम स्तर पर विचार-विमर्श चल रहा है। अगर बड़ी तादाद में मोबाइल नंबर डिस्कनेक्ट हुए तो इसका लोगों पर बड़ा असर पड़ेगा। हालांकि, अधिकारियों ने संकेत दिए हैं कि सरकार नए वेरिफिकेशन प्रक्रिया को पूरी करने के लिए पर्याप्त समय देगी।

बुधवार को टेलिकॉम सेक्रेटरी अरुणा सुंदराराजन ने मोबाइल कंपनियों के प्रतिनिधियों से बातचीत की और मामले का हल निकालने की कोशिश की गई। उधर, टेलिकॉम विभाग ने भी यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया से इस मुद्दे पर चर्चा की।

गौरतलब है कि हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने आधार मामले में सुनवाई करते हुए कहा था कि मोबाइल कंपनियां ग्राहकों से आधार नंबर नहीं मांग सकती हैं। ऐसे में कोर्ट के आदेश के बाद टेलीकॉम कंपनियों को ग्राहकों के आधार से संबंधित डेटा को हटाना होगा। जिस कारण दूसरा कोई वैध दस्तावेज जमा न कराने पर आधार की जानकारी हटने के साथ ही मोबाइल नंबर बंद हो जाएगा।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन