अपनी कट्टर हिंदीवादी छवि के कारण चर्चा में रहे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर भारत ही नही बल्कि दुनियाभर में चर्चाओं का माहौल गर्म है, हाल ही में न्यू यॉर्क टाइम्स के आलोचना करने के बाद अब वाशिंगटन पोस्ट ने भी योगी आदित्यनाथ को लेकर एक आपत्तिजनक लेख लिखा है जिसमे योगी को मिलिटेंट महंत तक कहा गया हालाँकि सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार भारत ने इस लेख को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दिखाई है.

क्या लिखा गया है लेख में 

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

द वॉशिंगटन पोस्ट के ओपिनियन पेज पर नीलांजना भौमिक के एक लेख की हेडलाइन है- मीट द मिलिटेंट मॉन्क स्प्रेडिंग इस्लामोफोबिया इन इंडिया यानी भारत में इस्लाम के खिलाफ नफ़रत फैलाने वाले चरमपंथी महंत से मिलिए. इस लेख में लव जिहाद, मुस्लिमों को लेकर योगी के बयान और धर्मांतरण जैसे मुद्दों के साथ ही अयोध्या विवाद का भी जिक्र किया गया है.

लेख में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को भारतीय राजनीति में ध्रुवीकरण करने वाली बड़ी शख्सियत कहा गया है. इसमें ये भी कहा गया है कि मोदी को शायद लगता है कि विकास के वादे न पूरे कर पाने और नोटबंदी जैसे कदम की वजह से उनकी प्रशंसकों की तादाद में कमी आई है. ऐसे में मोदी ने आदित्यनाथ के जरिए हिंदुत्व कार्ड खेला है.

आर्टिकल में लिखा गया है कि आदित्यनाथ अपनी ही पार्टी में लोकप्रिय नहीं हैं, इसके बावजूद मोदी और आदित्यनाथ हिंदुत्व को जोड़ने वाले दो सबसे बड़े मुद्दे गाय और अयोध्या के जरिए जनता में लोकप्रिय छवि बनाए हुए हैं. लेख के आख़िर में साम्यवादी विचारक कार्ल मार्क्स के उस विचार का जिक्र है जिसमें उन्होंने कहा था कि धर्म अफीम की तरह होता है.

Loading...