भारतीय सेना को मिलने वाले घटिया खाने की शिकायत करने वाले बीएसएफ जवान तेज बहादुर यादव अब जंतर-मंतर पर सेना में भ्रष्टाचार को लेकर मोदी सरकार के खिलाफ धरना देंगे.

14 मई से शुरू होने वाले इस धरने को लेकर यादव ने कहा कि वे मोदी सरकार को दो महीने का समय देगे ताकि जवानों को बेहतर खाना मिल सके. उन्होंने दावा किया कि इस धरने में सेना, CRPF, ITBP, नेवी और वायु सेना के पूर्व अधिकारी भी शामिल होंगे.

गौरतलब है तेज बहादुर यादव ने कुछ महीने पहले ड्यूटी पर तैनात जवानों को मिलने वाले खराब क्वालिटी के खाने का वीडियो फेसबुक पर पोस्ट किया था. हालांकि कोर्ट मार्शल इन्क्वायरी में उनकी शिकायत को गलत पाया गया और उन्हें अनुशासनका पालन न करने का दोषी पाया गया. इसके लिए पिछले महीने तेज बहादुर को सेना से बर्खास्त कर दिया गया था.

एक बार फिर से उन्होंने गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि हम जली हुई रोटियों और दाल पर जिंदा रहते हैं. हमें दो-तीन दिनों में एक बार खाने में सब्जी मिलती है. ज्यादातर जवान तो खिचड़ी खाकर जिंदा हैं.

उन्होंने कहा, सरकार ने फॉरवर्ड इलाकों के जवानों के लिए खाने के 18 आइटमों को मंजूरी दी है, लेकिन वे चीजें जवानों तक नहीं पहुंच पातीं. जवानों को ड्राईफ्रूट मिलने चाहिए, लेकिन उन्हें कभी नहीं दिया जाता. वरिष्ठ अधिकारी या तो उन्हें बेच देते हैं या अपने घरों में भेज देते हैं.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?