rss modi

8 नवंबर को प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी द्वारा लिए गए नोटबंदी के फैसले को 1 महिना से ऊपर का वक्त गुजर चूका हैं. पहले से ही नोटबंदी के कारण देश में फैली अराजकता के चलते विपक्ष ने सरकार के खिलाफ मौर्चा खोला हुआ था. अब मोदी सरकार के इस फैसले की राष्ट्रीय स्वयं सेवक (आरएसएस) ने भी आलोचना की हैं.

संघ के श्रम संगठन ने इस फैसले की आलोचना करते हुए कहा कि नोटबंदी की घोषणा के बाद से अब तक लाखों लोग बेरोजगार हो चुके हैं. भारतीय मजदूर संघ के अध्यक्ष बैज नाथ ने कहा कि मोदी शासनकाल में करीब 1 लाख 35 हजार लोगों को जॉब मिली है तो करीब 20 लाख लोग बेरोजगार हो गए हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने आगे कहा कि नोटबंदी की वजह से असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लाखों मजदूरों को बहुत ज्यादा मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. उन्हें काम नहीं मिल पाता है क्योंकि काम कराने वालों के पास कैश नहीं है कि वह अपना काम करवा सकें.

उन्होंने राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के बयान का हवाला देते हुए कहा,  नोटबंदी का सबसे बुरा असर असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले मजदूरों पर पड़ा है. लेकिन असर कितना बुरा है इसका सही सही आकलन भी नहीं हो पाया.

Loading...