Friday, August 6, 2021

 

 

 

कोरोना की आड़ में भारत में हो रहा मुसलमानों का दमन: अरुंधति रॉय

- Advertisement -
- Advertisement -

कोरोना संकट के बीच देश भर में मुस्लिमों पर हो रहे हिंसात्मक और नस्लीय हमलों की भारतीय उपन्यासकार और एक्टिविस्ट अरुंधति रॉय ने होलोकॉस्ट के दौरान नाजी जर्मनी में यहूदियों से हुए बर्ताव से की है. उन्होने इसके लिए  उन्होने सीधे मोदी सरकार को जिम्मेदार बताया.

जर्मनी चैनल डीडब्ल्यू से बातचीत में रॉय ने कहा कि हिन्दू राष्ट्रवादी सरकार अपनी इस कथित रणनीति को “इस बीमारी के साथ जोड़ कर कुछ और बनाने की कोशिश में है जिसे लेकर विश्व को अपनी नजर बनाए रखनी चाहिए.” रॉय ने आगे बताया कि “स्थिति जनसंहार की ओर बढ़ रही है.” रॉय ने कहा, “मुझे लगता है कि कोविड-19 के चलते भारत के बारे में ऐसी कई चीजें उजागर हो गई हैं जो हम पहले से जानते थे.” भारत के बारे में उनका कहना है कि “हम केवल कोविड ही नहीं बल्कि नफरत और भूख का संकट झेल रहे हैं.”

रॉय ने कहा, “मुसलमानों के खिलाफ इस तरह की घृणा सामने आने से पहले हमने दिल्ली में हुआ जनसंहार देखा था, जो कि लोगों के मुस्लिम-विरोधी नागरिकता कानून का विरोध करने का नतीजा था.” रॉय ने कहा, “कोविड-19 की आड़ में सरकार युवा छात्रों को गिरफ्तार कर रही है, वकीलों, वरिष्ठ संपादकों, एक्टिविस्टों और बुद्धिजीवियों के खिलाफ के खिलाफ केस दायर रही है. कुछ को तो हाल ही में जेल में डाला गया है.”

रॉय का मानना है कि सरकार वायरस का इस्तेमाल कुछ उस तरह से कर रही है जिससे होलोकॉस्ट के दौर में नाजियों के हथकंडों की याद ताजा हो जाती है. उन्होंने कहा, “जिस आरएसएस संगठन [राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ] से खुद मोदी आते हैं और जो बीजेपी की मातृ संस्था है, उसका हमेशा से कहना रहा है कि भारत एक हिन्दू राष्ट्र होना चाहिए.”

रॉय ने बताया कि “इसके विचारक भारत के मुसलमानों को जर्मनी के यहूदियों जैसा मानते हैं. और अगर आप देखें कि जिस तरह से वे कोविड का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो ये वैसा ही है जैसा टाइफस का इस्तेमाल यहूदियों के खिलाफ उन्हें अलग थलग करने और कलंकित करने के लिए हुआ था.”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles