Saturday, July 24, 2021

 

 

 

हिजाब पहनने को लेकर नेट परीक्षा देने से रोकने के मामले में यूजीसी को नोटिस

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्लीदिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) को नोटिस भेजकर पूछा है कि हिजाब पहनी एक छात्रा को यूजीसी नेट परीक्षा में बैठने की इजाजत क्यों नहीं दी गई।

बीते सप्ताह उमैया खान नाम की छात्रा को परीक्षा देने की इजाजत नहीं दी गई थी। छात्रा का आरोप है कि रोहिणी के परीक्षा केंद्र पर उनसे हिजाब खोलने को कहा गया था।

मामला प्रकाश में आने पर डीएमसी ने यूजीसी को नोटिस जारी किया है। जिसमें कहा गया है कि स्पष्ट तौर पर पूरा मामला धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ भेदभाव का है। इसका कोई कानूनी या संवैधानिक आधार नहीं है।

केरल हाईकोर्ट ने फैसला सुनाया है कि मुस्लिम महिलाएं परीक्षा केंद्रों पर हिजाब पहनकर जा सकती हैं। फैसले में कहा गया है कि सिख व मुस्लिम समुदाय के लोगों के धार्मिक अधिकार का सम्मान करना चाहिए।

डीएमसी ने यूजीसी के सचिव से सवाल किया है कि इस तरह के भेदभाव को इजाजत क्यों दी गई। कैसे एक छात्रा के साथ नेट परीक्षा में नाइंसाफी की गई।

आयोग के एक अधिकारी ने बताया, ‘दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने यूजीसी के सचिव से पूछा है कि क्यों भेदभाव होने दिया गया और हिजाब पहनी मुस्लिम महिला को नेट परीक्षा देने से रोककर की गई नाइंसाफी को वे कैसे ठीक करेंगे और भविष्य में इस तरह की नाइंसाफी का दोहराव रोकने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं।’ 

इसी तरह की घटना गोवा में भी सामने आई है, जहां 24 वर्षीय युवती ने आरोप लगाया है कि हिजाब उतारने से मना करने पर नेट की परीक्षा करा रहे अधिकारियों ने उन्हें इम्तिहान देने की इजाजत नहीं दी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles