नोटबंदी और जीएसटी को लेकर आलोचना झेल रही मोदी सरकार के लिए अब वर्ल्ड बैंक ने भी मुसीबत खड़ी कर दी है. वर्ल्ड बैंक ने भी माना है कि नोटबंदी और जीएसटी से देश की आर्थिक ग्रोथ प्रभावित हुई है.

वर्ल्ड बैंक का कहना है कि 2017 में भारत की वृद्धि दर 7% रही जो 2015 में थी. हाल ही में अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने भी देश की आर्थिक ग्रोथ में कमी के लिए नोटबंदी और जीएसटी को जिम्मेदार ठहराया था. मंगलवार को आईएमएफ ने  2017 के लिए भारत की वृद्धि दर का अनुमान घटाकर 6.7% कर दी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

विश्व बैंक ने अपनी द्विवार्षिक दक्षिण एशिया आर्थिक फोकस रपट में कहा है कि नोटबंदी से पैदा हुए व्यवधान और जीएसटी को लेकर बनी अनिश्चिताओं के चलते भारत की आर्थिक वृद्धि की गति प्रभावित हुई है. साथ ही  सुझाव देते हुए कहा कि सार्वजनिक व्यय और निजी निवेश के बीच संतुलन स्थापित करने वाली स्पष्ट नीतियों से 2018 तक यह वृद्धि दर बढ़कर 7.3% हो सकती है.

इससे पहले विश्व बैंक ने अपनी जून में संभावना व्यक्त करते हुए कहा था कि 2018 में भारत की वृद्धि दर 7.5 प्रतिशत और 2019 में 7.7 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

विश्वबैंक ने यह चेतावनी भी दी है कि अंदरूनी व्यवधानों से निजी निवेश के कम होने की संभावना है जो देश की वृद्धि क्षमताओं को प्रभावित कर नीचे की ओर ले जाएगा.

Loading...