नोबल पुरस्कार विजेता अमर्त्य सेन ने दिल्ली यूनिवर्सिटी के रामजस कॉलेज में हुई हिंसा के लिए आरएसएस के छात्र संगठन एबीवीपी को जिम्मेदार बताते हुए कहा कि ABVP की हिंसा पूर्ण रूप से लोकतंत्र विरोधी हैं.

पनी किताब ‘कलेक्टिव चॉइस एंड सोशल वेलफेयर: एक्सपैंडेड एडिशन’ के लॉन्चिंग के मौके पर एनडीटीवी को दिए गए इंटरव्यू में सेन ने कहा कि किसी भी संवाद के शुरू होने से पहले ही देश के लिए खतरनाक बता कर खत्म कर देने की कोशिश करनी भारतीय लोकतंत्र के खिलाफ है. हमें आम जिंदगी में तर्क वितर्क का वैचारिक आदान-प्रदान करना जरूरी है.

याद रहे रामजस कॉलेज प्रशासन ने ‘कल्चर ऑफ प्रोटेस्ट’ नाम के दो दिवसीय कार्यक्रम में उमर ख़ालिद और शेहला रशीद को निमंत्रण दिया था. जिसको लेकर एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने जमकर उत्पात मचाया था. जिसके बाद उमर ख़ालिद और शेहला रशीद को निमंत्रण कॉलेज प्रशासन ने रद्द कर दिया था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उमर खालिद को बीते साल जेएनयू में एक कार्यक्रम के लिए कन्हैया कुमार और अनिर्बान भट्टाचार्य के साथ राजद्रोह के आरोप में हिरासत में लिया गया था.

Loading...