बीते दिनों हिजाब के चलते मुस्लिम छात्रा को नेट परीक्षा देने से रोकने को लेकर अब गोवा सरकार का बयान सामने आया है। जिसमे कहा गया कि राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा(नेट) में बैठने के लिए कोई विशिष्ट ड्रेस कोड नहीं है।

दरअसल, पिछले महीने सफीना खान सौदागर (24) को पणजी में एक परीक्षा केंद्र में सुपरवाइजर ने उन्हें हिजाब (सिर पर पहना जाना वाले स्कार्फ) उतारने के लिए कहा था और जब उन्होंने ऐसा करने से इनकार कर दिया तो उन्हें परीक्षा में नहीं बैठने दिया गया।

Loading...

अब इस मामले में गोवा के उच्च शिक्षा निदेशक प्रसाद लोलिएनकर ने केंद्रीय मानव संसाधन मंत्रालय की राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी को लिखे पत्र में कहा, ‘छात्रा को परीक्षा में बैठने दिया जाना चाहिए था।’ 

उन्होंने कहा, ‘अगर किसी वजह से हिजाब पहनने की इजाजत नहीं है तो भी निर्देशों में इसका स्पष्ट रूप से जिक्र होना चाहिए।’ उन्होंने कहा कि परीक्षा लेने वालों और सुपरवाइजरों को आवेदकों की निजी स्वतंत्रता और और धार्मिक भावना के प्रति संवेदनशील होना चाहिए।

बता दें कि केरल हाईकोर्ट ने पहले ही इस मामले में फैसला दिया हुआ है कि मुस्लिम महिलाएं परीक्षा केंद्रों पर हिजाब पहनकर जा सकती हैं। फैसले में कहा गया है कि सिख व मुस्लिम समुदाय के लोगों के धार्मिक अधिकार का सम्मान करना चाहिए।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें