Wednesday, January 19, 2022

1991 की कश्मीरी बलात्कार पीड़िताओं को नहीं मिला अब तक न्याय: अम्नेस्टी

- Advertisement -

kashmiri women a representative image 696x392

एएमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया ने शुक्रवार को कहा कि 1991 में कुनान और पोशपोरा गांवों में सेना के एक आतंकवाद विरोधी अभियान के दौरान किये गए कथित रूप से महिलाओं के साथ बलात्कार के 27 साल बाद कश्मीर में दर्जनों बलात्कार पीड़िता न्याय का इंतजार कर रही है.

एनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया की निदेशक अम्मिता बसु ने अपने बयान में कहा, 27 साल तक, कुनान और पोशपोरा में किए गए अपराधों के लिए जवाबदेही की कमी एक अनैतिक अन्याय रही है. और जम्मू और कश्मीर में मानवाधिकारों के उल्लंघन के चारों ओर की दण्ड से मुक्ति का एक शानदार उदाहरण है.

उन्होंने कहा, न्याय की मांग करने और बलात्कार के बचे लोगों के लिए मुआवजे को सरकार और भारतीय सेना द्वारा अवरुद्ध कर दिया गया. इनमे न्याय के लिए इंतजार कर रहे पीड़ितों में से पांच महिलाएं भी शामिल है. जिन्होंने आवाज उठाई थी.

बसु ने कहा कि प्राधिकरणों को आरोपों में पूरी तरह से, निष्पक्ष और प्रभावी जांच सुनिश्चित करना चाहिए. कमांड की जिम्मेदारी वाले सभी संदिग्धों को एक नागरिक अदालत में मुकदमा चलाया जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि इन आरोपों से जुडी पिछली जांच भी अप्रभावी रही क्योंकि जम्मू और कश्मीर पुलिस ने घोषित किया कि यह मामला “अनदेखा” था और जांच रोक दी गई.

अक्टूबर 2011 में, जम्मू कश्मीर राज्य मानवाधिकार आयोग ने राज्य सरकार को पीडि़तों को क्षतिपूर्ति करने और आरोपों की फिर से जांच करने के निर्देश दिये थे. साथ ही जून 2013 में, कुपवाड़ा जिले में एक अदालत ने जम्मू-कश्मीर पुलिस को तीन महीनों के भीतर लंबे समय तक आरोपों की जांच करने का निर्देश दिया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

ध्यान रहे 1991 में भारतीय सैनिकों द्वारा कथित तौर पर कथित तौर पर गिरफ्तार की गई कश्मीरी महिलाओं में से 6 की मौतें हो गई जबकि शेष 17 लोग अभी भी न्याय का इंतजार कर रहे हैं.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles