नई दिल्ली | देश में मोदी सरकार बनने के बाद से गौरक्षा के नाम पर आये दिन लोगो को पीटा जा रहा है. यहाँ तक की कुछ लोगो को अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ा है. इस तरह गाय को लेकर की जा रही हिंसा से खुद प्रधानमंत्री मोदी भी चिंतित है. हालाँकि विपक्षी दलों का कहना है की गौरक्षको बीजेपी का संरक्षण प्राप्त है इसलिए वो हर जगह गुंडागर्दी कर रहे है और कानून को ठेंगा दिखा रहे है.

विपक्ष के आरोपों पर सफाई देते हुए केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा की वो लोग जो गौरक्षा के नाम पर हिंसा फैला रहे है , उसने बीजेपी का कोई लेना देना नही है. वो हमारे लोग नही है. हालाँकि बीजेपी और आरएसएस , गौहत्या पर प्रतिबंध का समर्थन करते है लेकिन इनकी रक्षा के नाम पर अति सक्रियता बरतने की हम निंदा करते है. गडकरी ने एक बार फिर मोदी के सबका साथ सबका विकास नारे की प्रतिबधता को दोहराया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पीटीआई से बात करते हुए नितिन गडकरी ने गौरक्षा के मुद्दे पर खुलकर अपनी राय रखी. उन्होंने कहा की गौरक्षा के नाम पर हिंसा नही होनी चाहिए. यह हमारी पार्टी का एजेंडा नही है. जो लोग हिंसा फैलाते है वो गलत है. हम उनके साथ नही है, खुद प्रधानमंत्री मोदी ने इन लोगो को निंदा की है. गडकरी ने माना की गौरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा से देश में सम्प्रदायिक तनाव बढ़ रहे है.

गडकरी ने कहा की देश में सम्प्रदायिक तनाव बढ़ने से आर्थिक विकास की रफ़्तार को ब्रेक लगा है. जबकि हमारा मुख्य एजेंडा आर्थिक विकास है. हम अपनी किसी भी निति में धार्मिक भेदभाव नही करते और हमारा पूरा ध्यान सबका साथ सबका विकास की और है. यह पहला मौका है जब गौरक्षको पर बीजेपी की तरफ से इस तरह की टिप्पणी आई है. वैसे यह देखा गया है की बीजेपी शासित राज्यों में गौरक्षको का ज्यादा प्रकोप रहता है. अगर गडकरी जी कह रहे है तो यह इत्तेफाक भी हो सकता है.