Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

नए ट्रैफिक रूल के विरोधियों पर भड़के गडकरी, बोले – पैसा उगाही के लिए….

- Advertisement -
- Advertisement -

नए ट्रैफिक रूल के हो रहे विरोध को लेकर केंद्रीय सड़क और परिवहन मंत्री नितिन गडकरी गुरुवार को कहा कि मोटर वाहन अधिनियम के तहत यातायात के उल्लंघन के लिए भारी जुर्माना लाखों लोगों के जीवन को बचाने के लिए है, ना कि राजस्व उत्पन्न करने या “लोकप्रिय राजनीति खेलने” के लिए।

उन्होने कहा, ये कानून इसलिए बनाया गया है ताकि लोगों की जान बच सके। हादसे न हों। लोग दिव्यांग न बनें। गडकरी ने कहा कि मोटर व्हीकल एक्ट में किए गए बदलावों का समर्थन तो कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी कर रहे हैं। यहां तक कि जो जुर्माना भर रहा है वो भी इसके समर्थन में है।

गडकरी का ये बयान नए कानून के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी में ट्रांसपोर्टरों, टैक्सी और तिपहिया की हड़ताल के बाद आया है। गडकरी ने कहा कि उन्हें यह समझ नहीं आ रहा कि दिल्ली के चालक इस कानून का विरोध क्यों कर रहे हैं। जो चालक यातायात नियमों का पालन करते हैं उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। यह कानून उनका जीवन बचाने के लिए लाया गया है।

traffic police

भाजपा शासित राज्य के विरोध पर गडकरी ने कहा कि विरोध नहीं है। मोटर व्हीकल एक्ट में किए गए बदलावों से पूरी तरह वाकिफ नहीं हैं। जिस दिन वे इसे पूरा पढ़ लेंगे, उसे समझ जाएंगे। देखिए…मोटर व्हीकल एक्ट के नए नियम आने के बाद दो मामले में बड़ी तेजी से मीडिया में उठाए गए। एक स्कूटी वाले से उसके वाहन से ज्यादा कीमत का जुर्माना वसूला गया। दूसरा एक ट्रक वाले से 2 लाख रूपए से ज्यादा का फाइन लिया गया। मैंने दोनों मामले खुद जांचे।

जिस राज्य में ट्रक पकड़ा गया. उस ट्रक वाले के पास न तो ड्राइविंग लाइसेंस था, न ही प्रदूषण सर्टिफिकेट था, न मेंटेंनेंस सर्टिफिकेट था, ड्राइवर ने शराब पी रखी थी और ट्रक ओवरलोडेड था. उसने मोटर व्हीकल एक्ट के सारे नियम तो़ड़ रखे थे। अब इसपर उस राज्य की पुलिस ने ट्रक वाले पर जुर्माने की अधिकतम राशि लगा दी। राशि 2 लाख के ऊपर पहुंच गई। यहां समझने की बात ये है कि मोटर व्हीकल एक्ट में लिखा है कि पिछले 30 साल पहले जो जुर्माना 100 रू. था, अब वह अगले 30 सालों के लिए तय राशि में बढ़ाया गया है। राज्य सरकार की पुलिस को अधिकतम राशि नहीं लगानी थी। लेकिन, इससे अब कानून का डर बैठेगा।

बता दें नए नियम के तहत सीट बेल्ट न लगाने पर जुर्माना 1000 रुपये कर दिया गया है। पहले ये 100 रुपए था। रेड लाइट जंप के लिए पहले जुर्माना 1000 रुपये था, अब 5000 रुपये देने होंगे। शराब पीकर गाड़ी चलाने पर पहले अपराध के लिए 6 महीने की जेल और 10,000 रुपये तक जुर्माने का प्रावधान है। जबकि दूसरी बार ये गलती करते हैं तो 2 साल तक जेल और 15,000 रुपये तक का जुर्माना लगेगा। बिना लाइसेंस के गाड़ी चलाने पर 500 रुपये की जगह अब 5,000 रुपये जुर्माना देना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles