राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने आतंकियों के साथ रंगे हाथों गिरफ्तार हुए निलंबित पुलिस उप-अधीक्षक (डीएसपी) दविंदर सिंह के मामले में जम्मू-कश्मीर के बारामूला जिले में कई जगहों पर छापेमारी की है। ये जानकारी एक एनआईए अधिकारी ने आईएएनएस (IANS) को दी है।

एजेंसी की टीम ने पुलिस के साथ मिलकर वाजा मोहल्ला के रायपोरा फलहलां में रसूल वाजा के घर पर भी छापेमारी की है। वाजा का एक बेटा फारूक अहमद भी स्वास्थ्य विभाग में सरकारी कर्मचारी हैं। वहीं दूसरे बेटे मुश्ताक अहमद वाजा ने 1993 में अवैध हथियारों/गोला-बारूद का प्रशिक्षण लेने के लिए एलओसी पार की थी, तब से आज तक वह वापस नहीं लौटा है वाजा, राज्य स्वास्थ्य विभाग के सेवानिवृत्त कर्मचारी हैं।

निलंबित डीएसपी दविंदर सिंह जम्मू संभाग की कठुआ जेल में बंद है। वहीं हिज्बुल आतंकी नवीद बाबू ,रफी अहमद राथर और इरफान शफी मीर भी गिरफ्तार हो चुके हैं। इस मामले की जांच पहले जम्मू-कश्मीर पुलिस कर रही थी, लेकिन दविंदर सिंह की गिरफ्तारी के बाद मामले को एनआईए को सौंप दिया गया है।

इस मामले में एनआईए द्वारा की गई जांच में पता चला है कि हिजबुल का पाकिस्तान स्थित नेतृत्व जिसमें सैयद सलाहुद्दीन, अमीर खान, खुर्शीद आलम, नजर महमूद समेत कई और लोग, पाकिस्तान के साथ मिलकर जम्मू-कश्मीर में आतंकी संगठन के कैडर और कमांडरों को समर्थन दे रहे हैं।

NIA ने यह भी दावा किया था कि नई दिल्ली में पाकिस्तान उच्चायोग के कुछ अधिकारी मीर उर्फ एडवोकेट के साथ लगातार संपर्क में थे। उसे राष्ट्र-विरोधी कार्यों के लिए धन मुहैया कराया गया था।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano