जालना/मुंबई: सूफी हजरत सय्यद अहमद शेर सवार के 743वें उर्स में शिरकत के लिए जालना पहुंचे रज़ा एकेडमी के प्रमुख अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने कहा कि पूरी दुनिया में पैगंबर ए इस्लाम हजरत मुहम्मद (सल्ल) पर अपनी जान कुर्बान करने वाले करोड़ो-अरबों आशिक है तो दूसरी और कुछ सिरफिरे लोग उनकी शान में गुस्ताखी कर रहे है।

उन्होंने कहा कि कहीं हुजूर के नाम से फर्जी तस्वीरें बनाई जा रही है तो कहीं अहले बैत का अपमान किया जा रहा है। औलिया ए किराम को भी निशाना बनाने में कोई कमी नही रखी जा रही हैं। इन अपमानजनक बयानों से दुनिया भर के मुस्लिमों में काफी नाराजगी है। उन्होंने कहा कि हमारा मुल्क हिंदुस्तान भी इससे अछूता नहीं है। रोजाना ऐसे मामले देखने को मिलते है। जिसके जवाब में मुसलमान अपना गुस्सा जाहिर करने के लिए सड़कों पर उतरते है और खुद का ही नुकसान कर बैठते है।

नूरी साहब ने बताया कि देश भर में ऐसे मामलों से निपटने के लिए रज़ा एकेडमी ने “तहफ्फुज ए नामुस ए रिसालत बोर्ड” का गठन किया है। जो भारतीय संविधान के दायरे में रहकर कानूनी कार्रवाई करेगा।

उन्होंने बोर्ड के कार्यों पर रोशनी डालते हुए कहा कि फिलहाल महाराष्ट्र के अलग-अलग हिस्सों में वकीलों की टीम की नियुक्ति की जा रही है। मराठवाड़ा के कई शहरों में टीम अपना कार्य शुरू कर चुकी है। आगामी दिनों में विदर्भ और खानदेश का दौरा होगा। जहां टीम का गठन होगा। साथ ही बोर्ड का विस्तार जल्द ही देश भर में भी होंगा।

इस मौके पर मुंबई से आए मौलाना अब्बास रज़वी, मौलाना जफरुद्दीन, नात ख्वा नूरी मियां, हजरत मौलाना अहमद रज़ा, सय्यद अली अंजुम रज़वी, मेमन आसिफ रज़वी आदि लोग मौजूद रहे।