Tuesday, June 22, 2021

 

 

 

बांग्लादेशी पासपोर्ट से ‘इस्राइल को छोड़कर’ शब्द हटाए जाने को लेकर रज़ा एकेडमी ने जताई नाराजगी

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई: रज़ा एकेडमी के प्रमुख अल्हाज मुहम्मद सईद नूरी ने कहा कि फिलिस्तीनी मुसलमानों पर इस्राइल का जुल्म रुका नहीं की इस्लामिक मुल्क बांग्लादेश ने अपने पासपोर्ट से ‘इस्राइल को छोड़कर’ वाले शब्द को हटा दिया। जिससे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि बांग्लादेश ने इस्राइल के साथ अपने सबंधों को सामान्य बना लिया है। हालांकि बांग्लादेश सरकार ने इससे इंकार किया।

उन्होने कहा कि मस्जिद ए अक्सा और फिलिस्तीनी मुसलमानो की सुरक्षा को लेकर दुनिया भर के अमन पसंद मुल्क अपनी कोशिशों में जुटे है। लेकिन बांग्लादेश के ये कदम उठाना आश्चर्यजनक है। जिसको फिलिस्तीन ने भी स्वीकार नहीं बल्कि बल्कि सख्त शब्दों में आलोचना की है।

नूरी साहब ने बताया कि बांग्लादेशी पासपोर्ट पर पहले लिखा होता था कि यह यात्रा दस्तावेज “इज़राइल को छोड़कर दुनिया के सभी देशों के लिए मान्य हैं।” उन्होने कहा कि बांग्लादेश का ये कदम आने वाले दिनों इस्राइल के नापाक वजूद को स्वीकार करने को लेकर है। जल्द ही वह उसके साथ व्यवसायिक सबंध का ऐलान कर सकता है।

उन्होने कहा, इस्राइल ने फिलिस्तीन में मासूम बच्चों, औरतों को निशाना बनाया। उसने अस्पतालों, स्कूलों, मीडिया हाऊस को भी नहीं छोड़ा। दुनिया भर के मुसलमान बांग्लादेश की इस हरकत से सख्त नाराज है। बांग्लादेश सरकार ने न केवल बांग्लादेशी मुसलमानो बल्कि दुनिया भर के मुसलमानों को दुख पहुंचाया है।

नूरी साहब ने बांग्लादेश सरकार से इस फैसले को वापस लेने की अपील करते हुए कहा कि ऐसे मुश्किल वक्त में बांग्लादेश फिलिस्तीनी मुसलमानों का सहारा बने और इस्लामिक मुल्कों के साथ इस्राइल के खिलाफ एकजुट रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles