मुंबई: शान ए रिसालत में तौहीन करने वालों के खिलाफ कानूनी रूप निपटने के लिए “तहफ़्फ़ुज़ ए नामुस ए रिसालत” मुहिम शुरू करने वाली रज़ा एकेडमी ने मंगलवार को बीबीसी न्यूज़ की मुंबई पुलिस कमिश्नर से शिकायत की है। बीबीसी न्यूज़ पर पैगंबर ए इस्लाम की कथित तस्वीर बनाकर मुस्लिमों की भावनाओं को आहत करने का आरोप है।

रज़ा एकडेमी के प्रमुख अल्हाज सईद नूरी और इस्लामिक विद्वान मोईन मियां ने मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह से मुलाकात कर बीबीसी न्यूज़ की और से हजरत मुहम्मद (सल्ल.) की फर्जी तस्वीर के प्रकाशन को लेकर चिंता जताई। उन्होंने कहा कि बीबीसी की और से एक साजिश के तहत देश भर के मुस्लिमों की भावनाओं को भड़काने की कोशिश हो रही है।

उन्होंने हाल में फ्रांस में हुए चार्ली हेब्दो का हवाला देते हुए कहा कि एक बार फिर से भारत ही नही दुनिया भर में तनाव व्याप्त हो सकता है। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की घटना होने पर बीबीसी की जिम्मेदारी होगी। रज़ा एकेडमी की शिकायत पर मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। साथ ही एडिशनल पुलिस कमिश्नर सुनील कुमार कोहेल ने बोर्ड की शिकायतों को रिमार्क भी किया।

इसके अलावा “तहफ़्फ़ुज़ ए नामुस ए रिसालत बोर्ड” की और से इस मामले में महाराष्ट्र सरकार में मंत्री असलम शेख से भी मुलाकात कर कार्रवाई की मांग की गई। सय्यद मोईन मियां ने लिखित शिकायत पत्र सौंपते हुए कहा कि हर तरफ से मुसलमानों को निशाना बनाया जा रहा है। अब शाने रिसालत में गुस्ताखी की जा रही है। ये सिलसिला रुकने के बजाय बढ़ता ही जा रहा है।

उन्होंने बीबीसी न्यूज़ के खिलाफ राज्य सरकार से कार्रवाई के लिए आदेश जारी करने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार तत्काल बीबीसी को पैगंबर ए इस्लाम की कथित फर्जी तस्वीर और वीडियो को वापस लेने और वेबसाइट, सोशल मीडिया से हटाने का निर्देश जारी करें। रज़ा एकेडमी की इस मांग पर असलम शेख ने सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। इस दौरान मुंबा देवी विधायक अमीन पटेल और इरफान सर मौजूद रहे।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano