उप-राष्ट्रपति हामिद अंसारी ने आतंकवाद के मसले पर पाकिस्तान को आड़े हाथों लिया है. राजधानी दिल्ली में इंडिया फाउंडेशन की तीसरी एंटी-टेररिज्म कांफ्रेंस में उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने कहा कि पाकिस्तान ने सीमापार मिशनों के लिए ‘अच्छे’ आतंकवादियों का पालन-पोषण किया है वहीं वह उसकी बात नहीं मानने वाले ‘खराब’ आतंकवादियों से जूझ रहा है.

अंसारी ने कहा कि आतंकवाद को उकसाने के लिए सबसे खतरनाक कारक सरकार द्वारा इसे प्रायोजित करना और आतंकवादियों के साथ मिलीभगत हैं. उन्होंने कहा, ‘‘विदेश नीति के तौर पर पाकिस्तान द्वारा आतंकवादी समूहों का इस्तेमाल करने की बात भलीभांति प्रामाणिक है.

उपराष्ट्रपति ने कहा कि इन आतंकवादी समूहों की सफलता के लिए वित्तीय संसाधनों की उपलब्धता महत्वपूर्ण है. अपने संबोधन में हामिद अंसारी ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से पाकिस्तान को अलग-थलग करने की अपील करते हुए कहा, ‘आतंकवाद को प्राजोयित कर रहे देशों को अंतरराष्ट्रीय समुदाय द्वारा अलग-थलग किया जाना चाहिए और उन्हें नीतिगत तौर पर आतंकवाद का इस्तेमाल रोकने के लिए मजबूर किया जाना चाहिए.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

ISIS का भी जिक्र करते हुए अंसारी ने कहा कहा कि जिन ताकतों ने ISIS जैसे आतंकी संगठनों के उभरने के लिए हालात पैदा किए, आज वही उसके शिकार होने का दावा कर रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘हाल के दिनों में ISIS ने पूरी दुनिया का ध्यान खींचा है. ऐसी ताकतों के तेजी से उभरने के कारणों को सतही तौर पर भी देखा जाए तो पता चलता है कि ऐसे देश, जो अब दावा कर रहे हैं कि वह ISIS के शिकार हैं, दरअसल वही ऐसे हालात के लिए प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तौर पर जिम्मेदार है.’

Loading...