उत्तर प्रदेश में चुनावी दंगल का मेला लग चूका हैं, हाल ही में दूसरी दलो को छोड़ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) में शामिल हुए नेताओं में बग़ावत की बू आ रही हैं. टिकट ना मिलने पर बीजीपी में शामिल होने वाले नेता निर्दलीय लड़ने का मन बना रहे हैं.

न्यूज़ नेटवर्क न्यूज़ 18 के अनुसार पार्टी में बागी नेताओं को मनाने की कोशिशें तेज़ हो रही हैं. टिकट ना मिलने के कारण असंतुष्ट नेताओं को मनाने, समझाने का काम शुरू हो गया है. किसी को मनाने के लिए उम्मीदवार को ही भेजा जा रहा है. पार्टी को डर है कि अगर पुराने और प्रसिद्ध नेता पार्टी उम्मीदवारों के खिलाफ चुनाव मैदान में उतरे तो स्थिति खतरनाक हो सकती है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राजधानी लखनऊ में लगभग सभी सीटों पर असंतोष देखने को मिल रहा है, यहाँ मोहनलाल गंज से भाजपा उम्मीदवार बनाए गए आर के चौधरी के खिलाफ पार्टी के कार्यकर्ता गतिशील होते दिखाई दे रहे हैं.

मीडिया जानकारी के अनुसार आर के चौधरी को टिकट नहीं दिए जाने का विरोध करते हुए कई भाजपा कार्यकर्ताओं ने प्रदेश कार्यालय में नारेबाजी की. तो वही लखनऊ कैंट से पूर्व भाजपा विधायक व टिकट न मिलने से नाराज सुरेश तिवारी भी नामांकन के लिए फार्म मंगाने की चर्चा जोरों पर है। पता चला है कि सुरेश चंद्र तिवारी सरोजनी नगर से उम्मीदवार के नाम की घोषणा का इंतजार कर रहे हैं.

ऐसे ही कई अन्य मामले भी हैं जहां भाजपा में शामिल हुए नेता टिकट ना मिलने के कारण नाराज़ हो रहे है और बग़ावत करने को भी तैयार हैं.

Loading...