amuu

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) कैंपस में हिंदूवादी कार्यकर्ताओं की गुंडागर्दी और छात्रों के खिलाफ पुलिस के लाठीचार्ज के विरोध में प्रदर्शन कर रहे AMU छात्रों ने प्रदर्शन के दौरान ‘भगवा रंग‘ और ‘आतंक’ से आजादी के नारे लगाए.

एमयू के प्रवक्ता प्रोफेसर शाफे किदवाई ने इस बारे में बताया कि विश्वविद्यालय के बाब-ए-सैयद गेट पर अनिश्चितकालीन धरना दे रहे छात्र-छात्राएं ‘भगवा रंग‘ और ‘आतंक’ से आजादी के नारे लगाए.

उन्होंने कहा कि यह समझने की जरूरत है कि छात्र-छात्राओं का प्रदर्शन इसलिये हो रहा है, ताकि पुलिस और प्रशासन तीन दिन पहले एएमयू में घुसकर भड़काऊ और निहायत आपत्तिजनक नारेबाजी करने वाले तथाकथित हिन्दूवादी संगठन के लोगों पर कार्रवाई करे. इस बारे में मुकदमा भी दर्ज हुआ है. इसके अलावा इन तत्वों के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे एएमयू के छात्रों पर हुए लाठीचार्ज के दोषी पुलिसकर्मियों के विरुद्ध कार्रवाई हो. साथ ही मामले की न्यायिक जांच की जाए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

233

किदवाई ने कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन कर रहे इन छात्र-छात्राओं की ये तीन मांगें है. उनसे विश्वविद्यालय प्रशासन बात कर रहा है लेकिन जब प्रशासन उनकी इन मांगों के बारे में बात करेगा, तभी सम्भवतः कोई रास्ता निकलेगा. किदवाई ने कहा कि यह प्रशासन की जिम्मेदारी है कि उपद्रवी तत्व एएमयू के अंदर आखिर कैसे दाखिल हुए. हमारे लोगों ने उन्हें रोका और उनमें से चार लोगों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया, मगर पुलिस ने उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की.

बता दें कि छात्रसंघ यूनियन का आरोप है कि दो मई को पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी की गाड़ी एएमयू में पहुंचते ही लगभग 20 बाइकों पर सवार भगवाधारियों ने पिस्टल व लाठी-डंडों से हमला किया था. इस दौरान मुख्य द्वार पर रोकते समय उनकी सुरक्षाकर्मियों से झड़प भी हुई. जिसमे यूनिवर्सिटी का एक सुरक्षाकर्मी और एक छात्र हमले में घायल हुआ.

छात्रसंघ अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी का कहना है कि बॉबे सैयद पर हुए विवाद के बाद छात्र व कुछ पूर्व छात्र छात्रसंघ की अगुआई में पुलिस स्टेशन पर तहरीर देने पहुंचे थे. छात्र सांसद सतीश गौतम पर आरोप लगाते हुए एफआईआर की मांग कर रहे थे, लेकिन पुलिस रिपोर्ट दर्ज नही कर रही थी. विरोध करने पर पुलिस ने आसू गैस के गोले छोड़े और लाठीचार्ज किया. इसमें अध्यक्ष मशकूर अहमद उस्मानी, सचिव मोहम्मद फहद, पूर्व उपाध्यक्ष माज़ीन हसन, इमरान गाजी, पूर्व अध्यक्ष फैजुल हसन, नबील उस्मानी समेत तमाम छात्र घायल हो गए.

Loading...