कांग्रेस के वरिष्ट नेता दिग्विजय सिंह के धार्मिक गुरु और शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा कि केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार के रहते अयोध्या में श्रीराम मंदिर का निर्माण हो जाएगा.

‘नईदुनिया’ को दिए एक इंटरव्यू में उन्होंने कहा कि चुनाव के दौरान भाजपा ने अपने घोषणा पत्र में राममंदिर निर्माण कराने का वादा किया था और नरेंद्र मोदी को पीएम प्रोजेक्ट किया गया था. ऐसे में केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के रहते अयोध्या स्थित श्रीराम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण कराने का हक हम धर्माचार्यों और हिंदू समाज के लोगों को है.

कांग्रेस को लेकर उन्होंने कहा कि मोदी के अलावा केंद्र में अन्य किसी की सरकार बनेगी तो हम धर्माचार्यों, हिंदू समाज और भारत की जनता को मंदिर निर्माण कराने की बात कहने का हक भी नहीं रहेगा. भाजपा ही है कि जो राम मंदिर सहित अन्य हिंदू हितों को लेकर चुनाव लड़ती है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

babri masjid

राम मंदिर निर्माण में आ रही अड़चनों को लेकर उन्होंने कहा कि श्रीराम जन्मभूमि पर जितनी जमीन का दावा मंदिर निर्माण ट्रस्ट ने किया है वह पूरी जमीन हमें मिली नहीं है. हाई कोर्ट ने भूमि का कुछ हिस्सा मस्जिद कमेटी को भी दिया है. इसलिए अभी मंदिर का निर्माण शुरू नहीं किया गया.

बता दें कि अयोध्या विवाद का ये मामला फिलहाल सुप्रीम कोर्ट में लंबित है और मुस्लिम पक्ष ने इस मामले में किसी भी प्रकार के समझौते से साफ़ इनकार कर दिया है.