mahavir dhruv (1)

नई दिल्ली: बीजेपी के एक पूर्व आईटी सेल के सदस्य ने दावा किया है कि भाजपा का आईटी सेल भाजपा के प्रधान कार्यालय 24 अशोक रोड से चल रहा है, जहां करीब 300 लोग काम करते हैं, जो प्रचार को बनाए रखने के लिए फर्जी खातों के माध्यम से नकली सामग्री को फैलाते है. जिसे बाद में फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर के माध्यम से वायरल किया जाता है.

भाजपा के 27 वर्षीय पूर्व आईटी सेल सदस्य महावीर ने ध्रुव राठी को बताया कि उन्होंने 2012 से 2015 तक भाजपा आईटी सेल में काम किया, जिसके लिए उन्हें 30 हजार रुपये का भुगतान किया गया और आवास, भोजन , यात्रा व्यय, इंटरनेट कनेक्शन आदि उपलब्ध कराए गए.

आगे बताते हुए महावीर ने कहा कि भाजपा लोगों को ध्रुवीकृत करने के लिए सोशल मीडिया के जरिए झूठे प्रचार करती है, जो बाद में वोट बैंक में परिवर्तित हो जाता है. उन्होंने यह भी स्वीकार किया कि वे खुद झूठे प्रचार फैलाने के लिए जिम्मेदार थे जिसके बाद 2012 में नागौर जिले में सांप्रदायिक संघर्ष हुआ था.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

महावीर ने भाजपा आईटी सेल द्वारा अपनाई गई रणनीति का पर्दाफाश किया, जिसमें वे सोशल मीडिया पर पोपुलर पेज को बनाते है. जैसे – ‘आई सपोर्ट इंडियन आर्मी’, ‘आई सपोर्ट नरेंद्र मोदी’. इसी तरह के एक आगे के लगभग 15 मिलियन लाइक्स हैं और लगभग 20 हजार ऐसे पेज हैं और 300 से अधिक फर्जी समाचार पोर्टल जो भाजपा आईटी सेल द्वारा संचालित है.

उनके दावे के अनुसार, भाजपा आईटी सेल के शीर्ष 150 सदस्यों को प्रधान मंत्री के साथ मिलने का अवसर मिलता है. आईटी सेल में अपनी जिम्मेदारी के बारे में सवाल पर महावीर ने कहा, उनका मुख्य काम समाचारों की सामग्री में ‘दलित’, ‘हिंदू’ और ‘मुसलमान’ से जोड़कर विवादास्पद बनाना था. ताकि लोगों को भडकाया जा सके.

महावीर ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा दोनों ही समान नीति अपनाते हैं. “कांग्रेस हमेशा डर की राजनीति करती है; जबकि भाजपा ने धर्म और जाति के आधार पर लोगों को ध्रुवीकरण किया.”

Loading...