जम्मू कश्मीर के कठुआ में 8 साल की बच्ची के रेप और हत्या मामले में आज देश की सर्व्वोच अदालत में सुनवाई हुई. सुनवाई के बाद कोर्ट ने राज्य सरकार को पीड़ित परिवार, उनके वकील और इस मामले में परिवार की मदद कर रहे लोगों को सुरक्षा मुहैया कराने का निर्देश दिया है.

शीर्ष अदालत ने पीड़ित के परिवार के इस अनुरोध पर भी गौर किया कि मुकदमे को कठुआ से चंडीगढ़ स्थानांतरित कर दिया जाये. न्यायालय ने इस पर राज्य सरकार से जवाब मांगा है. इस मामले में अब 27 अप्रैल को आगे सुनवाई होगी.

accused of Kathua rape and murder case  - Khabar IndiaTV

पीड़ित परिवार की वकील दीपिका सिंह राजावत ने कहा कि मामले की सुनवाई कठुआ की अदालत में होने पर उनकी जान को खतरा बताया. इसके अलावा पीडि़त के पिता ने जम्मू कश्मीर पुलिस की जांच पर संतोष व्यक्त किया और आरोपियों द्वारा इसकी जांच सीबीआई को सौंपने के अनुरोध का विरोध किया.

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा , न्यायमूर्ति ए . एम . खानविलकर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई . चन्द्रचूड़ की तीन सदस्यीय खंडपीठ ने राज्य सरकार को निर्देश दिया कि इस मामले में आरोपी किशोर को सुधार गृह में पर्याप्त सुरक्षा प्रदान की जाये. पीठ ने यह भी कहा कि पीड़ित के परिवार के सदस्यों तथा दूसरों को सुरक्षा प्रदान करने वाले पुलिसकर्मी सादे कपड़ों में होंगे.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें