देश के चर्चित शायर और आधुनिक कवि मुन्नवर राणा के साथ रेलवे ने कुछ ऐसा किया कि उनका लिखा – “आते हैं जैसे जैसे बिछड़ने के दिन क़रीब, लगता है जैसे रेल से कटने लगा हूं मैं” उन पर ही फिट बैठ गया.

दरअसल मुनव्वर की तबियत खराब थी और उन्हें दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती होना था. लेकिन रेलवे ने ट्रेन में उन्हें ऊपर की बर्थ दे दी. जिसकी वजह से उनका सफर इतना असहज हुआ कि उन्हें ट्वीट करके अपनी परेशानी केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल को बतानी पड़ी.

उन्होंने ट्वीट किया “तीन पैसेंजर में से दो सीनियर सिटीजन हैं लेकिन इसके बावजूद हमें ऊपर की बर्थ मिली. क्या सीनियर सिटीजन को यही सुविधा मिलती है”. राणा ने रेल मंत्री पीयूष गोयल और रेल मंत्रालय को भी अपने ट्वीट में टैग किया. उन्होंने अपना पीएनआर नंबर, ट्रेन नंबर और बर्थ नंबर भी बताया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि कुछ साल पहले मुनव्वर राणा के घुटने का प्रत्यारोपण हुआ है. वे कैंसर से भी लड़ रहे हैं. भारी वजन के चलते उन्हें चलने फिरने में भी दिक़्कतें होती हैं.

Loading...