यूपी की राजधानी लखनऊ में अभिषेक मिश्रा नाम के VHP कार्यकर्त्ता द्वारा मुस्लिमों से नफरत के चलते कैब की बुकिंग कैंसिल कर देने के मामले ने तुल पकड़ लिया है. इस मामले VHP कार्यकर्त्ता की चोतरफ़ा आलोचना हो रही है.

दरअसल अभिषेक ने अपने ट्विटर हैंडल पर कैब ड्राइवर की डिटेल के स्क्रीनशॉट के साथ लिखा था, “ओला कैब बुकिंग कैंसिल कर दी क्योंकि ड्राइवर मुस्लिम था. मैं अपना पैसा जिहादी लोगों को नहीं देना चाहता हूं.” बता दें कि अभिषेक का ट्विटर अकाउंट वेरिफाइड है और उसे पीएम नरेंद्र मोदी कैबिनेट के कई केंद्रीय मंत्री फॉलो करते हैं, जिनमें निर्मला सितारमन, धर्मेंद्र प्रधान शामिल हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मामले में अब पूर्व आईपीएस संजीव भट्ट ने करारा जवाब दिया है. संजीव भट्ट ने कहा कि  “संघी राष्ट्रवादी और मोदी भक्त जिन्हें मुस्लिम ओला ड्राइवर्स के साथ समस्या है, उन्हें सभी पेट्रोलियम उत्पादों का उपयोग करना बंद कर देना चाहिए क्योंकि इनमें से अधिकतर उत्पाद मुस्लिम देश से आता है. उन्हें बाबा रामदेव के दावे गौमूत्र से वैकल्पिक ईंधन विकसित करने की प्रतीक्षा करनी चाहिए.

बता दें कि इससे पहले ओला ने भी इस मामले में जवाब दिया. अभिषक के ट्वीट का जवाब देते हुए ओला ने लिखा कि हमारे देश की तरह ओला भी सेक्युलर है और हम अपने ड्राइवर पार्टनर या कस्टमर में जाति, धर्म, लिंग के आधार पर कोई भेदभाव नहीं करते. हम अपने सभी कस्टमर्स और ड्राइवर पार्टनर्स से आग्रह करते हैं कि एक दूसरे का सम्मान करें.

Loading...