asifa

कठुआ गैंगरेप मामले में बीजेपी की भूमिका को लेकर असीफा के परिजनों में बड़ा गुस्सा है. बच्ची के परिजनों ने सीधे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल किया कि क्या ऐसे हम अपनी बेटियों को पढ़ा सकेंगे?

परिजनों का कहना है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ का नारा दिया था. लेकिन क्या ऐसे हम अपनी बेटियों को पढ़ा सकेंगे? बच्ची के परिजनों का कहना है कि बीजेपी के कुछ नेता इस मामले में आरोपियों को बचाना चाहते हैं.

पीड़ित परिवार का कहना है कि सरकार के मंत्री चौधरी लाल सिंह और कुछ अन्य बीजेपी नेता बच्ची के कातिलों का सपोर्ट कर रहे हैं. आरोपियों के समर्थन में रैली निकाली जा रही है.

asifa main 640x424

पीड़ित पक्ष का कहना है कि जब से आरोपियों के पक्ष मे रैली निकाली गई है उनका पूरा परिवार डरा -सहमा हुआ है. परिवार के लोग कहीं भी बाहर आने-जाने से डर रहे हैं. पीड़ित बच्ची की बहन और उनकी मां ने इस मामले के सभी दोषियों के लिए फांसी की सजा की मांग की है.

बता दें कि मुस्लिमों से दुशमनी निकालने के लिए आसिफा को 10 जनवरी को उसके गांव के पास से अगवा किया गया था. उसे नशे के हाई डोज में रखा गया, और कई दिन तक उसके साथ कई लोगों ने मन्दिर में गैंगरेप किया. जिनमे एक रिटायर्ड सेल्स ऑफिसर, एक पुलिस वाला और 15 साल का एक युवक शामिल है.

7 दिनों तक मंदिर में रेप करने के बाद असीफा की पत्थरों से कुचल कर हत्या कर दी गई. असीफा का 17 जनवरी को क्षत-विक्षत शव मिला.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें