The court reserved the order on the bail plea of Asaram

नाबालिग से बलात्कार मामले में हिन्दू धर्मगुरु आसाराम को जज मधुसूदन शर्मा की अदालत ने नाबालिग से बलात्कार मामले में दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है. साथ ही इस मामले में बाकी दो दोषियों को 20-20 साल की सजा दी गई.

सजा के अनुसार आसाराम को मरने तक जेल में ही रहना होगा वहीं 1 लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया है. आसाराम को धारा 376 (4) के तहत 1 लाख का जुर्माना, आईपीसी की धारा 73 डी के तहत उम्रकैद, आईपीसी की धारा 376 (2)एफ के तहत आजीवन कारावास, जुवेनाइल जस्टिस एक्ट के तहत 6 महीने, और धारा 506 के तहत एक साल की सजा सुनाई है.

इसी के साथ बयानों में आसाराम के कुकर्मों का भी खुलासा हुआ है. पीडि़ता के बयान के अनुसार, आसाराम की बेटी लड़कियों को आश्रम से भेजती थी, बापू उन्हें बोलते थे आज उसे भेजना है, आज उसे भेजना है. वहीँ पूर्व साधक अमृत प्रजापति ने कहा कि आसाराम बेटी को फोन करता था और वो गाड़ी से लड़कियां लाती थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Sexual harassment case: godman's bail plea rejected

इसके अलावा आसाराम के पुराने सेवादार अजय कुमार ने जोधपुर कोर्ट के समक्ष खुलासा करते हुए कहा था कि आसाराम ने सिर्फ जोधपुर आश्रम में ही 23 से ज्‍यादा लड़कियों के साथ यौन संबंध स्‍थापित किये हैं. अजय कुमार ने यह बयान मजिस्‍ट्रेट के सामने दर्ज कराया.

वहीँ अहमदाबाद आश्रम के पूर्व कोर्डिनेटर अजय कुमार ने खुलासा किया था कि उन्‍होंने आसाराम को एक बार महिलाओं संग अर्धनग्‍न अवस्‍था में स्विमिंग पुल में नहाते देखा था. अजय कुमार के मुताबिक ये घटना अहमदाबाद के मोटेरा आश्रम की है जहां वो काम करते थे.

Loading...