नाबालिग से रेप मामले में हिन्दू धर्मगुरु आसाराम बापू समेत सभी पांचो आरोपियों कोम दोषी करार दिया गया है. जोधपुर केंद्रीय कारागार परिसर में जज मधुसूदन शर्मा ने आसाराम को दोषी करार दिया.

एससी/एसटी विशेष अदालत के जज मधुसूदन शर्मा ने मुख्य आरोपी आसाराम और सह आरोपी आसाराम के सेवक शिवा, शरतचंद्र, प्रकाश व मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा आश्रम की हॉस्टल वॉर्डन शिल्पी के खिलाफ फैसला सुनाया है.

बता दें कि उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर की एक नाबालिग लड़की ने आसाराम बापू पर जोधपुर के बाहरी इलाके में स्थित अपने आश्रम में यौन उत्पीड़न का आरोप लगाए गए थे. जिस समय पीड़िता आश्रम में रह रही थी, वह 16 साल की थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मामले पीड़िता की और से दिल्ली के कमला मार्केट थाने में यह मामला दर्ज कराया गया था, जिसे बाद में जोधपुर स्थानांतरित कर दिया गया.

आसाराम पर पॉक्सो और एससी/एसटी ऐक्ट के तहत कानून की धाराएं लगाई गई थी. आसाराम को जोधपुर पुलिस ने 31 अगस्त 2013 को गिरफ्तार किया था और तब से वह जोधपुर सेंट्रल जेल में बंद हैं.

Loading...