indian railway

देश में बेरोजगारी किस तक है. इस बात का अंदाजा हाल ही में रेलवे की और से निकाली गई भर्ती में भरे जा रहे आवेदनों को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है. अब तक के आंकड़ों के अनुसार, एक लाख रिक्तियों के लिए दो करोड़ से ज्‍यादा युवा आवेदन आ चुके है.

इस हिसाब से एक पद के लिए 200 युवाओं ने फॉर्म भरा है और अब भी ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन के लिए अभी भी पांच दिन शेष हैं. यानि कि ये आकड़ा कही और अधिक जा सकता है. इसके अलावा चतुर्थ श्रेणी के पदों के लिए भी लाखों युवाओं ने फॉर्म भरा है.

पिछले कुछ सालों में देश में तेजी से बेरोजगारी बढ़ी है. सरकारी और निजी क्षेत्र में नौकरियों के अवसर लगातार कम होने की वजह से शिक्षित युवा रोजगार के लिए भटक रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2014 में चुनाव प्रचार के दौरान हर साल रोजगार के एक करोड़ नए मौके पैदा करने की बात कही थी. ‘मिंट’ की रिपोर्ट के अनुसार, वित्‍त वर्ष 2015-2016 में रोजगार दर में 0.1 फीसद तक की गिरावट आई है.

भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था की उत्‍पादकता का पता लगाने के लिए केएलईएमएस इंडिया के ताजा अध्‍ययन में यह बात सामने आई है. इस अध्‍ययन को आरबीआई का समर्थन प्राप्‍त था.

वित्‍त वर्ष 2015-2016 के आंकड़ों के अनुसार, कृषि, वानिकी, मत्‍स्‍य पालन, खनन, खाद्य उत्‍पाद, वस्‍त्र, चमड़ा उद्योग, परिवहन और व्‍यापार जैसे क्षेत्रों में रोजगार के मौकों में लगातार गिरावट आई है.

Loading...