Tuesday, August 3, 2021

 

 

 

नसरुल्ला खान ने गरीबों में बांटा करोड़ों रुपए का राशन, बोले – किसी को भूखा नहीं सोने दूंगा

- Advertisement -
- Advertisement -

लॉकडाउन के बीच गरीबों को दो वक्त का भोजन जुटाना महंगा साबित हो रहा है। ऐसे में वलसाड जिले के  40 वर्षीय व्यवसायी नसरुल्ला आर खान के फरिश्ता सिफ़त इंसान साबित हुए है। उन्होने जिले के 35 गांवों में गरीब परिवारों को 1.10 करोड़ रुपये का अनाज बाँट डाला। उन्होने कहा कि वह अपने आसपास किसी को भूखा नहीं रहने देंगे।

उत्तर प्रदेश के सिद्धार्थनगर जिले के मूल निवासी 39 वर्षीय नसरुल्ला खान स्क्रेप और इलेक्ट्रीकल कंट्रोल पैनल के उद्योग से जुड़े हैं। उन्होंने बताया कि सात साल की उम्र से यहां रहते हुए वापी को कर्मभूमि बनाया है और आज बहुत कुछ पाया है। 24 मार्च को लॉकडाउन घोषित होने के बाद अपने आसपास के लोगों तथा समाचारों माध्यमों में श्रमिकों व गरीबों को भोजन की समस्या से परेशान देखा तो पूरी रात सो नहीं सका।

उन्होने बताया, इतनी कम उम्र में ही ऊपरवाले ने इतना कुछ दिया है तो हमारी यह जवाबदारी बनती है कि संकट के समय आसपास के लोगों की दिल खोलकर मदद करें और यही करने का प्रयास किया है। वापी तहसील के भड़कमोरा, छीरी, राता, मोराई, छरवाड़ा, कोपरली, लवाछा, पिपरिया, डुंगरी फलिया, करवड़, देगाम, अतुल फलिया के अलावा मोटा पोंढा, कपराडा, नानापोंढा, काकड़कोपड़ समेत कई गांवों में सरपंचों व स्थानीय लोगों के सहयोग से गरीबों को घर घर जाकर अनाज का वितरण किया।

नसरुल्ला खान ने कहा कि इस सेवा यज्ञ को सुचारू रुप से संचालित करने में वार्ड नंबर पांच के पार्षद मोहम्मद ईशा उर्फ बब्लू भाई, करवड सरपंच देवेन्द्र पटेल, जिला पंचायत सदस्य भाविन पटेल एवं डुंगरा थाना प्रभारी आईपीएस आफिसर ओमप्रकाश जाट समेत पुलिस स्टाफ व अन्य सेवाभावी लोगों का सहयोग मिला है। इसके साथ ही वापी सेवा समिति के संयोजन में कन्वीनर युसुफ घांची और अब्दुल रजाक अजमेरी का सहयोग भी सराहनीय रहा है।

उन्होंने बताया कि तीसरे चरण के लॉकडाउन की घोषणा हो गई है और इसे देखते हुए 12 हजार से ज्यादा किट के वितरण की तैयारी शुरू कर दी गई है। अभी तक 135 टन चावल, 80 टन आटा और 32 टन से ज्यादा दाल समेत रोजमर्रा की चीजें वितरित की गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles