capture 2 1524111956

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को लंदन में ‘भारत की बात, सबके साथ’ कार्यक्रम में कठुआ और उन्नाव रेप केस को लेकर कहा कि इसपर राजनीति नहीं की जानी चाहिए.

ऐतिहासिक वेस्टमिंस्टर सेंट्रल हॉल में उन्होंने कहा कि कल्पना कर सकते हैं किसी छोटी बालिका के साथ बलात्कार होता है।. कितनी दर्दनाक घटना ये है. तो हम क्या कहेंगे कि आपकी सरकार में इतने बलात्कार होते हैं और हमारी सरकार में कम होते हैं. ये ठीक नहीं है.

उन्होंने कहा, “मैंने लालकिले से इसे अलग तरीके से रखा. बेटी से सारे सवाल पूछे जाते हैं, कभी बेटों से भी पूछना चाहिए कि कहां गए थे. ये देश के लिए चिंता का विषय है, ये पाप करने वाला किसी का बेटा है. उसके के भी घर में मां है..

asifa pro

मोदी ने कहा, आप कल्पना कर सकते हैं कि आजादी के इतने सालों के बाद भारत में सेनिटेशन का कवर 35-40 फीसदी के आसपास था. गरीब मां शौचालय जाने के लिए सूर्योदय से पहले जाती है, दिन में जरूरत हो तो शाम का इंतजार करती है. क्या हम टॉयलेट नहीं बना सकते. ये सवाल मुझे सोने नहीं देता. तब जाकर मुझे लगा कि मैं लालकिले पर जाकर अपनी भावनाएं बता दूंगा. मैंने देखा कि देश ने साथ दिया. 3 लाख गांव खुले में शौच से मुक्त हो गए.”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि रेलवे स्टेशन मेरी जिंदगी और मेरे संघर्ष का स्वर्णिम पृष्ठ है. रेल की पटरियों और आवाज से बहुत कुछ सीखा है. और यह लोकतंत्र का ही कमाल है कि आज रॉयल हॉल में एक चाय बेचने वाला भी आप लोगों के बीच पहुंच सकता है. लोकतंत्र में जनता ईश्वर का रूप है.

उन्होंने कहा कि संतोष के भाव से विकास नहीं होता है. मकसद गति देता है नहीं है तो जिंदगी रूक जाती है. बेसब्री तरुणाई की पहचान है और यह आपमें नहीं है तो आप बुजुर्ग हो चुके हैं. बेसब्री ही विकास का बीज बोता है. बेसब्री को मैं बुरा नहीं मानता.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें