पिछले साल 15 अगस्त को वायरल हुई एक फोटो के बाद देश भर के लोगों ने एक बच्चे की देशभक्ति को सलाम किया था। यह फोटो असम की थी। लेकिन आज उस बच्चे के भारतीय होने पर ही सवाल खड़े हो गए। दरअसल उसका नाम असम के नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटीजन्स (NRC) में शामिल नहीं है और उसे अपने भारतीय होने का सबूत पेश करना है।

बता दें कि पिछले साल असम के धुबरी जिले में दो बच्चे एक प्राइमरी स्कूल परिसर में सीने तक पानी में डूबे हुए तिरंगे झंडे को सलामी देते देखा गया था। जिसकी फोटो सोशल मीडिया से होते हुए नेशनल मीडिया तक पहुंची थी। ये फोटो नौ साल के हैदर खान की थी। लेकिन अब उसका नाम असम में हाल में जारी एनआरसी के फाइनल ड्राफ्ट में शामिल नहीं है।

दिलचस्प यह है कि हैदर के अलावा उसके परिवार के सभी लोगों जैसे मां जैगुन खातून, 12 वर्ष के एक भाई और छह साल की एक बहन और उसके दादा आलम खान का नाम एनआरसी में शामिल है। हैदर के पिता रुपनल खान की साल 2011 में कोकराझार में हत्या कर दी गई थी।

nrc 650x400 81514750773

इस बारें में धुबरी जिले के बरकलिया-नसकारा गांव में रहने वाले हैदर ने कहा, ‘मैं एनआरसी के बारे में नहीं जानता। हमारे इलाके के समझदार लोग जो बताएंगे, मैं वही करूंगा।’ जब उससे वायरल फोटो के बारे में पूछा गया तो उसने बताया, ‘सब कुछ पानी में डूब गया था। स्कूल में जहां राष्ट्रीय झंडा फहराया जा रहा था, वहां अन्य बच्चे जाने से डर रहे थे। लेकिन जियारुल और मैं तैरकर उस जगह पहुंचे और झंडे को सलामी दी।’