15 अक्टूबर से लापता JNU छात्र नजीब अहमद के मामलें में फिरौती मांगने वाले शख्स से दिल्ली पुलिस ने पूछताछ करना शुरू कर दी हैं. यूपी के महराजगंज के कोतवाली से गिरफ्तार युवक शमीम हत्या का भी आरोपी हैं. आरोपी शमीम (19) ने 18 साल से कम की उम्र में एक हत्या की थी और इसके लिए पांच महीने सुधार गृह में रहा था. आरोपी ने कथित रूप से नजीब को छोड़ने के लिए घरवालों से 20 लाख रुपये की फिरौती मांगी थी.

शमीम ने जिस नंबर से फोन किया था, वह नंबर और मोबाइल भी बरामद हुआ है, जिसके बाद दिल्ली पुलिस ने शमीम को अदालत में पेशकर उसको रिमांड में लेकर दिल्ली ले आई. नजीब के रिश्तेदार सदफ मुशर्रफ ने दावा किया था कि उसके पिता को 15 जनवरी के आसपास ऐसा फोन कॉल आया था और पुलिस को इसकी जानकारी दे दी गयी थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

पुलिस अधिकारी ने कहा कि इस बात की जांच की जा रही है कि क्या उसने केवल आसानी से पैसे कमाने के लिए ऐसा किया या उसका कोई छिपा हुआ मकसद है.  हालांकि नजीब की माँ ने इसके पीछे दिल्ली पुलिस के आला अधिकारीयों के होने की आशंका जाहिर की हैं.

इसकी वजह बताते हुए उन्होंने कहा कि ”उन्होंने ही यह फेक कॉल करवाई है..क्योंकि 23 तारीख़ में इस मामले की सुनवाई जो होने वाली है..वहां दिल्ली पुलिस को अपनी एक महीने की पूरी रिपोर्ट दाख़िल करनी है इसलिए वो ऐसा करवाकर दिखाना चाहती है कि हमने कुछ ना कुछ काम किया है.”

Loading...