जवाहरलाल नेहरु विश्वविद्यालय के लापता छात्र नजीब अहमद के बारें में गलत रिपोर्ट छापने को लेकर नजीब की मां फातिमा नफीस ने टाईम्स ऑफ इंडिया सहित विभिन्न मीडिया संस्थानों को लीगल नोटिस भेजा है. जिसमे उन्होंने इन मीडिया संस्थानों से माफ़ी की मांग की हैं.

दरअसल, देश के प्रतिष्ठित समाचार पत्र टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने 21 मार्च 2017 के एडिशन में नजीब अहमद के आईएस से रिश्तें जोड़ते हुए उसे एक आतंकी के रूप में बदनाम करने की कोशिश की थी. हालांकि दिल्ली पुलिस द्वारा इस खबर के खंडन के बाद समाचार पत्र ने माफ़ी मांगी थी.

पत्रकार राजेशकर झा ने अपनी रिपोर्ट में नजीब के खूंखार आतंकी संगठन आईएस समर्थक होने की दलील देते हुए कहा था कि पुलिस को नजीब अहमद के लैपटॉप में मौजूद ब्राउज़र की हिस्ट्री से पता चला हैं कि नजीब इस्लामिक स्टेट की विचारधारा से प्रभावित था. इसके साथ ही कहा गया कि वह इस आतंकी संगठन से जुड़ने वाला था. साथ ही रिपोर्ट में दावा किया गया था कि दिल्ली पुलिस ने इस बारें में गूगल से मिली जानकारी को हाईकोर्ट में भी सबूत के तौर पर पेश किया. हालाँकि इस रिपोर्ट को दिल्ली पुलिस ने पूरी तरह से फर्जी करार देते हुए नकार दिया. जिसके बाद खबर का स्पष्टीकरण पांचवे पृष्ठ पर 22 मार्च को प्रकाशित किया गया. टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने नजीब को आईएस के समर्थक की ये रिपोर्ट 570 शब्दों में पहले पृष्ठ और तीसरे पृष्ठ पर छापी थी. वहीँ रिपोर्ट का स्पष्टीकरण 75 शब्दों में पांचवे पृष्ठ पर 22 मार्च को प्रकाशित किया था. इस रिपोर्ट के हवालें से विभिन्न न्यूज़ चैनल्स ने नजीब को एक आतंकी के रूप में पेश किया.

इसी खबर को लेकर अब फातिमा नफीस ने अपने वकील वृंदा ग्रोवर के माध्यम से टाइम्स ऑफ इंडिया, टाइम्स नाउ, जी न्यूज और अजतक चैनल को कानूनी नोटिस भेजा हैं. इस नोटिस में उन्होंने मांग की है कि ये सभी मीडिया घराने अपनी गलत और अपमानजनक रिपोर्ट के लिए माफी मांगें.

उन्होंने नोटिस में ये मांगे उठाई:

  • प्रिंट मीडिया में टाइम्स ऑफ इंडिया सात दिनों तक लगातार प्रथम पृष्ठ पर माफीनामा प्रकाशित करे.
  • इस खबर को सभी ऑनलाइन पोर्टल्स, सोशल मीडिया अकाउंट और वेबसाइट से हटाया जाए.
  • खबर प्रकाशित करने वाले मीडिया संस्थान अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट  से सात दिनों तक हर दो घंटों में एक माफीनामा ट्वीट करें जिसमे गलती मानते हुए खबर के गलत और आधारहीन होने के तथ्य दे.
  • वहीं खबर को प्लांट करने वाले टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार राजशेखर झा से माफ़ी की मांग के साथ टाइम्स ग्रुप्स से उन पर कारवाई की भी मांग की गई.
Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें