sushma1

sushma1

बांग्लादेश के दौरे पर पहुंची विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने रोहिंग्या मुस्लिमो के मुद्दें पर कहा कि म्यामांर में विस्थापित लोगों की वापसी से ही सामान्य स्थिति बहाल हो सकती है.

भारतीय विदेश मंत्री ने बांग्लादेशी समकक्ष अबुल हसन महमूद अली के साथ मीडिया को संबोधित किया और कहा, ‘हालात तभी सामान्य हो सकते हैं जब रखाइन राज्य से निर्वासित लोगों को वापस वहीं बसाया जाए.’ ध्यान रहे म्यांमार के रखीन राज्य में हिंसा से बचने के लिए लगभग 600,000 अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुस्लिम बांग्लादेश में शरण ली हुई है.

बीडीएन्यूज 24 डॉट कॉम की खबर के मुताबिक सुषमा स्वराज ने बांग्लादेश में शरण लेने वाले हजारों लोगों के संदर्भ में रोहिंग्या शब्द का इस्तेमाल नहीं किया और इसके बजाय सुषमा ने उन्हें रखाइन राज्य के विस्थापित लोग कहकर संबोधित किया.

सुषमा ने बांग्लादेश के साथ संयुक्त सलाहकार आयोग की वार्ता के बाद कहा, ‘‘म्यामांर के रखाइन प्रांत में बेतहाशा हिंसा को लेकर भारत बहुत चिंतित है.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने आग्रह किया है कि लोगों की भलाई को ध्यान में रखते हुए हालात से संयम के साथ निपटा जाए.’’

सुषमा ने कहा, ‘रखाइन प्रांत में सामाजिक-आर्थिक और आधारभूत ढांचे का तेजी से विकास ही वहां की स्थिति को लंबी समाधान दे सकती है. और इससे प्रांत में रहने वाले सभी समुदायों के लिए सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा.’

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?