उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में खतौली के पास पुरी-हरिद्वार-कलिंगा उत्कल एक्सप्रेस के 14 डिब्बे पटरी से उतरने की वजह रेलवे की लापरवाही बनी. जिसके चलते 24 लोगों को अकाल मौत का सामना करना पड़ा वहीँ 150 से ज्यादा लोग अभी मौत से लड़ रहे है.

ट्रेन संख्या 18477 कलिंग-उत्कल एक्सप्रेस पुरी से हरिद्वार की तरफ जा रही थी. इसी दौरान मुजफ्फरनगर के खतौली रेलवे स्टेशन के पास ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए. ये हादसा मुजफ्फरनगर के खतौली के पास शाम 5 बजकर 46 मिनट पर हुआ.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

प्राप्त जानकारी के अनुसार घटनास्थल के पास की पटरियां कटी हुई पाई गई हैं और साथ ही वहां से मरम्मत का सामन हथौड़े, रिंच और अन्य औजार मिले हैं. दरअसल  खतौली में ट्रैक पर मरम्मत का काम चल रहा था. बावजूद रेलवे ने ट्रेनों को उन्ही ट्रैक से गुजारा.

रेल मंत्रालय ने हादसे के शिकार लोगों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है. समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, रेलवे ने मारे गए लोगों के परिजनों को 3.5 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये बतौर मुआवजा देने का ऐलान किया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खतौली रेल हादसे पर दुख जताते हुए कहा कि यूपी सरकार और रेल मंत्रालय सभी जरूरी मदद मुहैया कराने में जुटे हैं. उन्होंने घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की.

Loading...