दिल्ली के उत्तर-पूर्व इलाके में हुई हिंसा के बाद कई जगहों पर नाले से शव बरामद किए जा रहे हैं। तो दूसरी और हिंसाग्रस्त क्षेत्रों से मुस्लिमों का पलायन शुरू हो गया है। जाफराबाद, मौजपुर, बाबरपुर, यमुना विहार, भजनपुरा, चांदबाग, शिव विहार इलाकों को मुस्लिमों ने छोडना शुरू कर दिया है।

स्थानीय निवासियों में भय का माहौल है। जिसके चलते मुस्लिम परिवार हिंसा प्रभावित इलाकों को छोड़ कर जा रहे हैं। आपबीती बयां करते सिहर उठे मोहम्मद आसिफ ने बताया कि कैसे उनके मकान मालिक ने उन्हें घर से निकाल दिया और दंगाइयों की उन्मादी भीड़ ने लोहे की छड़ों से उनकी ऐसे पिटाई की कि उन्हें गंभीर चोटे आ गई।

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के रहने वाले 20 साल के आसिफ ने बताया कि मकान मालिक के मंगलवार सुबह उन्हें घर से निकाल देने के बाद हमले से उनका बच पाना मुश्किल ही था। उन्होंने कहा, ‘‘भीड़ ने मुझ पर हमला किया क्योंकि मुझे सड़क पर छोड़ दिया गया था। मैं उत्तर प्रेदश से हूं, मेरे मकान मालिक ने मुझे घर से निकाल दिया था और मेरे पास जाने के लिए कोई जगह नहीं थी।’’ जीटीबी अस्पताल में मुंह पर खून के धब्बे लगे डरे सहमे बैठे आसिफ के सिर और एक पैर पर पट्टियां बंधी थी। उसके एक हाथ में भी चोट आई है। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने शाहजहांपुर में अपने घर वालों को बता दिया है और वे मुझे लेने आ रहे हैं।’’

इसके अलावा मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है। तो इसके साथ ही नालो से भी शवों का निकलना जारी है। जाफराबाद इलाके में आईबी कर्मचारी अंकित शर्मा का शव नाले से मिला था। इसके बाद गुरुवार को गोकुलपुरी इलाके के नाले से तीन और शव मिले हैं।  गुरुवार की सुबह स्थानीय लोगों ने गोकुलपुरी नाले में कूड़े के ढेर के साथ एक हाथ देखा और इसकी सूचना पुलिस को दी। सुबह 7 बजे के आसपास लगभग 50 कर्मियों की पेट्रोलिंग टीम ने स्थानीय गोताखोरों को बुलाया और उन्हें शव बाहर लाने को कहा।

पेट्रोलिंग टीम के एक अधिकारी ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, “गोताखोरों ने पहले शरीर को बाहर निकाला, जो गल गया था। हमें संदेह हुआ कि अंदर और भी शव हो सकते हैं, इसलिए गोताखोरों को फिर से भेजा गया। आधे घंटे के बाद एक और शव बाहर निकाला गया। पहला कचरे के पास पाया गया था, जबकि दूसरा नाले के अंदर गहराई में था।”

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने पुष्टि किया, “हमें पूर्वोत्तर दिल्ली में नालियों से चार शव मिले हैं। यह उन इलाकों के पास है जहां सोमवार और मंगलवार को हिंसा हुई थी। हमारे पास क्षेत्र में लापता व्यक्तियों की एक सूची है और लोगों की पहचान करना चाहते हैं। घरों और इमारतों की तलाशी के लिए स्थानीय पुलिस तैनात किए गए हैं। नालों की और जांच की जाएगी ताकि ये पता चल सकें कि वहां और शव तो नहीं हैं?”

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन