modi

modi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को कार्यक्रम ‘मन की बात’ में हज यात्रा को लेकर कहा कि अब किसी मुस्लिम महिला को बिना किसी मेहरम (पति, पिता या भाई) के स्वतंत्र रूप से हज यात्रा की इजाजत होगी.

मोदी ने कहा, दशकों से मुस्लिम महिलाओं के साथ भेदभाव हो रहा है, उनके साथ अन्याय किया जा रहा है, लेकिन इस अन्याय और भेदभाव के बारे में कोई बात नहीं करता है. उन्होंने कहा, ‘हमारी जानकारी में बात आयी कि यदि कोई मुस्लिम महिला, हज यात्रा के लिए जाना चाहती है तो वह महरम या मेल गार्जियन के बिना नहीं जा सकती है. ये भेदभाव क्यों?

उन्होंने कहा, अल्पसंख्यक मंत्रालय ने यह प्रतिबंध हटा लिया है और अब मुस्लिम महिलाओं को बिना किसी पुरुष संरक्षक के हज यात्रा करने की अनुमति होगी. पीएम मोदी ने कहा, हमने यह नियम बदला और इस साल 1300 मुस्लिम महिलाओं ने बिना किसी पुरुष सदस्य के हज यात्रा पर जाने के लिए आवेदन किया.

प्रधानमंत्री ने बताया,  मामलों के मंत्रालय को मैंने सुझाव दिया है कि अकेले अवेदन करने वाली संभी महिलाओं को हज यात्रा पर भेजा जाए। वैसे तो हज पर लॉटरी सिस्टम के तहत भेजा जाता है, लेकिन मैंने कहा है कि अकेले आवेदन करने वाली महिलाओं के लिए लॉटरी से अलग व्यवस्था की जाए.

आपको बता दें कि हज कमेटी ऑफ इंडिया की नई नीति के बाद बिना महरम 4 महिलाओं व अधिक ग्रुप में जाने वाली महिलाओं को अनुमति दी गई है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?