Thursday, October 28, 2021

 

 

 

हिजाब की वजह से नहीं देने दिया था NET एग्जाम, मुस्लिम छात्रा ने की UGC में शिकायत

- Advertisement -
- Advertisement -

जामिया मिल्लिया इस्लामिया की एक मुस्लिम छात्रा को नैशनल एजिलिबिलिटी टेस्ट (NET) में बैठने से इसलिए रोक दिया गया क्योंकि उसने हिजाब पहना हुआ था। इस मामले में अब छात्रा ने UGC में शिकायत दर्ज कराई है।

जामिया में एमबीए इन इंटरनेशनल बिजनेस की छात्रा उमाइया खान ने यूजीसी चेयरपर्सन को पत्र लिख कहा कि “जब वह परीक्षा देने के लिए सेंटर पहुंची, तो एक पुरुष स्टाफ ने उससे सिर ढकने वाला स्कार्फ हटाने को कहा। उमाइया ने लिखा कि वह इस बात से बेहद चकित हुई क्योंकि एडमिट कार्ड में इस तरह की कोई गाइडलाइंस नहीं लिखी हुईँ थी।

उमाइया ने लिखा कि उसने स्टाफ से कहा कि वह अपने धर्म को मानने के कारण स्कार्फ नहीं हटा सकती। जब मैंने एक महिला स्टाफ से इस बारे में बात की तो उन्होंने भी मुझे हिजाब हटाने की बात कही….”

द इंडियन एक्सप्रेस के साथ बाततचीत में उमाइया खान ने कहा कि ‘लोगों को अपनी ड्यूटी करनी चाहिए, ना कि दूसरों को अपने धार्मिक प्रतिकों को हटाने के लिए कहना चाहिए, फिर चाहे वो मुस्लिम हो, सिख या हिंदू।’ उमाइया ने यूजीसी को लिखे अपने पत्र में मांग की है कि उसे NET-JRF पास उम्मीदवार माना जाए।

खान ने आगे कहा कि ‘भविष्य के लिए मैं विनती करती हूं कि यह सुनिश्चित किया जाए कि किसी के धर्म, लिंग या पहचान के आधार पर किसी के साथ भी ऐसा ना हो।’

वहीं इस मामले पर जब मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि “सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए नियम बनाए हैं कि आप परीक्षा में क्या ले जा सकते हो और क्या नहीं। हम सिर्फ सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस का पालन कर रहे हैं।”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles