Saturday, November 27, 2021

मुस्लिम बुद्धिजीवियों की राहुल को सलाह – ‘समुदायों को छोड़ गरीबों की बात करे’

- Advertisement -

2019 लोकसभा चुनावों की रणनीतिक तैयारियों के तहत कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी विभिन्न तबकों के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर रहे हैं। उन्होने दलित बुद्धिजीवियों के बाद अब मुस्लिम बुद्धिजीवियों से मुलाक़ात की।

बुधवार को अपने सरकारी निवास पर एक दर्जन मुस्लिम लिबरल बुद्धिजीवियों, विचारकों एवं प्रफेशनल्स के साथ दो घंटे चली इस मुलाकात में राहुल ने माना कि पूर्ववर्ती यूपीए सरकार लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने में नाकाम रही, जिसकी वजह से हम हारें।राहुल ने कहा, ‘हमसे भी गलतियां हुई हैं, हम देश की उम्मीदों को पूरा नहीं कर पाए, इसी वजह से हम हारे।’

बैठक में मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने राहुल को सलाह दी कि पार्टी को कम्यूनिटी की नहीं, बल्कि पावर्टी की बात करनी चाहिए। क्योंकि जब कांग्रेस कम्यूनिटी की बात करती है तो विरोधियों को सवाल उठाने का मौका मिल जाता है। इन बुद्धिजीवियों का कांग्रेस अध्यक्ष से कहना है कि कांग्रेस में सिर्फ 4 फीसदी दाढ़ी टोपी वाले मुस्लिमों की बात होती है जो हलाला, ट्रिपल तलाक जैसे सनसनीखेज मुद्दे उठाते हैं। लेकिन 96 फीसदी मुसलमानों के वही मुद्दे हैं जो बाकी देश के मुद्दे हैं जैसे गरीबी, बेरोजगारी और शिक्षा। जिसके बाद राहुल गांधी ने भी माना की कांग्रेस से गलती हुई है।

muslim people praying
source: Youtube

मीटिंग में शामिल इलियास मलिक का कहना था कि राहुल गांधी के साथ मॉइनॉरिटी के बारे में नहीं, बल्कि देश के बारे में और सामाजिक मुद्दों पर चर्चा हुई। उनका कहना था कि तीन तलाक व शरीयत कोर्ट जैसे मुद्दों पर कोई चर्चा नहीं हुई।

कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष नदीम जावेद का कहना है कि राहुल गांधी उन लिबरल लोगों से मुलाकात करते रहेंगे, जिनकी सोच सही दिशा में है। बताया जाता है कि जल्द ही ऐसी ही मुलाकात के लिए जावेद अख्तर, शबाना आजमी व नसीरुद्दीन शाह जैसे कलाकारों को भी बुलाया जाएगा।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles