Friday, July 30, 2021

 

 

 

पश्चिम बंगाल: कैंसर पीड़ित हिन्दू युवक की मदद के लिए मुस्लिमो ने मुहर्रम जुलुस से किया किनारा

- Advertisement -
- Advertisement -

muharram is observed in the country 3 injured in bihar jharkhand death

कोलकाता | एक हफ्ते पहले पुरे देश में मुहर्रम और दुर्गा प्रतिमा विसर्जन एक साथ मनाया गया. हालाँकि इसको लेकर काफी विवाद भी हुआ. कई राज्य सरकारों को इस दिन कानून व्यवस्था बिगड़ने का डर था. इसलिए उत्तर प्रदेश और बिहार में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन का रास्ता अलग कर दिया गया. हालाँकि फिर भी कई जगह पर आगजनी और मारपीट की खबरे सामने आई. अकेले उत्तर प्रदेश में 10 जिलो के अन्दर हालात नियंत्रण से बाहर हो गए.

एक तरफ मुहर्रम के दिन साम्प्रदायिक तनाव बढ रहा था तो वही बंगाल के खडगपुर में एक नयी इबारत लिखी जा रही थी. यहाँ मुस्लिम भाइयो ने सम्प्रदायिक सोहार्द की एक अनूठी मिसाल पेश की. मिली जानकारी के अनुसार खडगपुर के मुस्लिमो ने बीते सप्ताह मुहर्रम जुलुस न निकालकर एक हिन्दू युवक की मदद करने का फैसला किया. यह हिन्दू युवक कैंसर से पीड़ित है और जिन्दगी और मौत से जूझ रहा है.

हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के अनुसार खरागपुर के पुरटन बाजार में मुहर्रम जुलुस का आयोजन करने वाले समाज संघ क्लब ने एक 35 वर्षीय हिन्दू युवक अबीर भुनिया को 50 हजार रूपए दान दिए. अबीर यहाँ एक मोबाइल रिचार्ज की दूकान चलाता है. उसका इलाज कोलकाता के दक्षिणी किनारे पर सरोज गुप्ता कैंसर केंद्र में चल रहा है. अबीर को इलाज के लिए 12 लाख रूपए की जरुरत है. फ़िलहाल उसकी कीमोथेरेपी चल रही है.

इस बारे में बताते हुए समाज संगठन के सचिव अमजद खान ने कहा की मुहर्रम का जुलुस हर साल निकाला जाता है लेकिन पहले एक जिन्दगी बचाने की ज्यादा जरुरत है. इसलिए हमने इस बार अबीर की मदद करने का फैसला किया. हमने अबीर के लिए एक पैसा जमा करना शुरू कर दिया है. इसके लिए शुक्रवार के दिन नमाज के बाद एक दान अभियान चलाने का फैसला किया है. इसके लिए हम मस्जिद के इमाम से इजाजत मांगेंगे.

पुरटन बाजार की मुहर्रम समिति के सदस्य मोहम्मद बिलाल ने कहा की अबीर मौत से लड़ रहा है , हमें उसके साथ खड़ा होना चाहिए. क्योकि अगर हम लोगो की सेवा करेंगे तो भगवान हमसे संतुष्ट होगा. उधर अबीर ने पड़ोसियों का धन्यवाद देते हुए कहा की मुझे नहीं पता कि मैं अंत में ठीक हो जाएगा या नहीं, लेकिन मेरे पड़ोसियों ने जो मेरे लिए क्या किया, वह मेरे दिल को छुआ है. बताते चले की पिछले साल ही अबीर के माँ बाप का निधन हो चूका है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles